कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी के पति रॉबर्ट वाड्रा की मुश्किलें एक बार फिर बढ़ती नजर आ रही हैं. दिल्ली हाई कोर्ट ने मनी लांड्रिंग मामले में रॉबर्ट वाड्रा और उनके करीबी सहयोगी मनोज अरोड़ा की दी गई अग्रिम जमानत को रद्द करने की सुनवाई को जहां एक तरफ टाल दिया है. तो वहीं दूसरी तरफ ED वकालत कर रही है कि राबर्ट वाड्रा पूछताछ में सहयोग नहीं दे रहे हैं इसलिए उन्हें अग्रिम जमानत नहीं दी जानी चाहिए. इसी बीच एक ऐसी खबर आई है जिससे राहुल गांधी और राबर्ट वाड्रा दोनों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. बता दें कि ED ने कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी के जीजा और प्रियंका गाँधी के पति रॉबर्ट वाड्रा के करीबी सीसी थम्पी को गिरफ्तार कर लिया है. बता दें कि थम्पी दुबई में रहकर भारत की कई डिफेंस डील करवाने का भी आरोपित होने के साथ-साथ दुबई सहित भारत के कई लोकेशन पर अवैध संपत्ति का मालिक भी है.

जरुर पढ़ें:  प्रियंका गांधी का सुरक्षा घेरा तोड़कर सिक्ख पहुंचा उनके नजदीक, फिर हुआ ये!

गौरतलब है कि फरवरी 2019 में रॉबर्ट वाड्रा से सीसी थम्पी के साथ उनके संबंधों को लेकर पूछताछ की गई थी. प्रवर्तन निदेशालय को शक है कि 2009 में हुए एक पेट्रोलियम करार के लिए एक शारजाह स्थित कम्पनी के माध्यम से डील फाइनल की गई थी. बता दें कि इस डील में भी एनआरआई व्यवसायी सीसी थम्पी का हाथ बताया जा रहा है. बता दें कि पहले भी वाड्रा से सीसी थम्पी और संजय भंडारी के साथ लंदन में बेनामी संपत्ति रखने के बारे में भी पूछताछ की जा चुकी है. संयुक्त अरब अमीरात में थम्पी की स्काईलाइट्स नाम की कम्पनी है और भारत में स्काईलाइट्स प्राइवेट लिमिटेड से वाड्रा के सम्बन्ध सामने आए हैं.

जरुर पढ़ें:  फांसी के समय क्यों होता है सफेद रुमाल का इस्तेमाल, कौन-कौन होता है मौजूद?

बता दें कि स्काईलाइट्स प्राइवेट लिमिटेड राजस्थान के बीकानेर में अवैध जमीन सौदे को लेकर प्रवर्तन निदेशालय के रडार पर है. अवैध संपत्ति और विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम FEMA के कथित तौर पर उल्लंघन के चलते सीसी थम्पी को ED ने गिरफ्तार किया है. इसके पहले ईडी ने 2017 में थम्पी पर एक हजार करोड़ रुपए का कारण बताओ नोटिस भी जारी किया था. दुबई के कारोबारी को कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी के दामाद रॉबर्ड वाड्रा और हथियार विक्रेता संजय भंडारी के साथ कथित संबंधों पर पूछताछ के लिए भी तलब किया जा चुका है. लेकिन इस बार सीसी थम्पी पर ED ने अकेला शिकंजा कसा है. अगर ऐसे में थम्पी कांग्रेस अध्यक्ष या वाड्रा को लेकर कोई बयान दे देते हैं तो उनकी अग्रिम जमानत तो क्या गिरफ्तारी होने की उम्मीद जताई जा रही है.

जरुर पढ़ें:  30 साल बाद कांग्रेस कि बिहार में अपनी पहली रैली , जानीए कैसी रही रैली

 

 

 

 

Loading...