देश भर में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। लोग केंद्र की मोदी सरकार से सीएए वापस लिए जाने की मांग कर रहे हैं। बड़ी संख्या में महिलाएं लखनऊ में सीएए के विरोध में प्रदर्शन कर रही हैं। इस बीच लखनऊ में सीएए के समर्थन में आयोजित एक रैली में देश के गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मैं लखनऊ की धरती से यह घोषणा करता हूं कि जिसे सीएए का विरोध करना है करे, सीएए किसी भी कीमत पर अब वापस नहीं होगा।

अमित शाह ने विपक्ष पर आरोप लगाया कि जब कश्मीर से लाखों कश्मीरी पंडितों को भगा दिया गया था, तो इनका मानवाधिकार कहां गया था। गृह मंत्री ने कहा कि इस मुद्दे पर भ्रम फैलाया जा रहा है कि इस कानून से मुसलमानों की नागरिकता चली जाएगी, विपक्ष का कोई भी नेता चर्चा करने के लिए तैयार हो जाए तो हमारी ओर से स्वतंत्रदेव सिंह चर्चा के लिए तैयार हैं।

जरुर पढ़ें:  महाराष्ट्र में हिंदुत्ववादी छवि के लिए आपस में भीड़ गए उद्धव और राज ठाकरे

बता दें कि देशभर में सीएए को लेकर लगातार हो रहे प्रदर्शन के जवाब में भारतीय जनता पार्टी ने इस कानून के संबंध में जागरुकता अभियान शुरू करने का ऐलान किया और इसी के बाद अमित शाह के अलावा कई अन्य केंद्रीय मंत्री भी जनसभा आयोजित कर रहे हैं।

Loading...