JNU में नकाबपोशों के हमले ने ठंड के मौसम में भी राजनीतिक सरगर्मी बढ़ाने का काम किया है. एक के बाद एक बयानों की बयार में हर किसी ने अपने-अपने स्तर पर इस घटना का आंकलन करना शुरू कर दिया है. इस घटना ने बयानों का एक ऐसा अखाड़ा तैयार किया है जिसमें विपक्ष लगातार सरकार पर निशाना साधने का काम कर रहा है. कोई पुलिस को कटघरे में खड़ा कर रहा है तो किसी ने BJP और RSS को घेरा है.

खबरों में ABVP पर भी आरोप लगाए जा रहे हैं. लेकिन इन सबके बीच फिलहाल अभी उस जांच की रिपोर्ट का इंतजार है जिसे अमित शाह ने दिल्ली गवर्नर से तलब किया है. इसी कड़ी में अगर विपक्ष की बात हो रही है तो ममता बनर्जी और उद्धव ठाकरे को कैसे भूला जा सकता है. ममता जिसके किले में बीजेपी ने सेंधमारी कर दुश्मनी मोर ली तो वहीं उद्धव ठाकरे जो कि  बीजेपी के नए दुरविरोधी बने हैं. बता दें कि ममता और उद्धव ने भी JNU की इस घटना पर अपनी राय रखते हुए इसे फांसीवाद और 26/11 से जोड़ा है. महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने बयान में कहा कि “मुझे 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमले की याद आ गई. नकाबपोश हमलावर कौन थे, ये तलाश करने के लिए तफ्तीश होनी चाहिए.” साथ ही उन्होंने कहा कि “देशभर के विद्यार्थियों में डर का माहौल है.

जरुर पढ़ें:  जेएनयू हिंसा के 9 आरोपियों की पहचान जारी, जेएनयूएसयू अध्यक्ष आइशी घोष भी शामिल

हम सभी को एक साथ आकर उनमें आत्मविश्वास भरना होगा. जेएनयू में हमला करने वाले नकाबपोश हमलावर कायर हैं, उनकी पहचान का खुलासा होना चाहिए. देश में छात्र असुरक्षित महसूस कर रहे हैं.” इसके साथ ही बंगाल के मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आप सरकार को क्लीनचिट देने के साथ-साथ बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘दिल्ली पुलिस अरविंद केजरीवाल के अंतर्गत काम नहीं करती है.

वहां की पुलिस केंद्र सरकार के अधीन काम करती है. एक तरफ वो लोग बीजेपी के गुंडों को भेज रहे हैं और दूसरी ओर पुलिस को काम नहीं करने दे रहे हैं. पुलिस इसमें क्या कर सकती है जब उन्हें ऊपर से आदेश दिया जा रहा हो. ये एक फांसीवादी सर्जिकल स्ट्राइक है.’ बताते चलें कि दिल्ली पुलिस ने इस मामले में मिली सभी शिकायतों को मिलाकर एक केस दर्ज कर लिया है. तो वहीं इसकी जांच क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई है. तो वहीं पुलिस ने कुछ हमलावरों की पहचान करने के साथ ही दावा किया है कि जल्द ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा.

जरुर पढ़ें:  भागवत बोले- 'कितने बच्चे हों', इस पर कानून लाए सरकार

 

 

Loading...