भारतीय जनता पार्टी नेता जय भगवान गोयल की किताब ‘आज के शिवाजी नरेंद्र मोदी’ पर महाराष्ट्र में राजनीतिक तूफान खड़ा हो गया है…. बता दें कि इस किताब में शिवाजी की तुलना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से की गई है. इसके चलेत कांग्रेस और शिवसेना ने इसे महान मराठा सम्राट शिवाजी की अवमानना बताया और इस किताब का बढ़चढ़कर विरोध किया. और तो और शिवसेना ने गोयल से उनकी पुस्तक को लेकर शिवाजी महाराज के वंशजों से रुख स्पष्ट करने की मांग की थी. इसी कड़ी में छत्रपति शिवाजी के वंशज और बीजेपी नेता उदयनराजे भोसले ने कमान संभालते हुए शिवसेना को करारा जवाब दिया है.

जरुर पढ़ें:  कश्‍मीर लिबरेशन फ्रंट के प्रमुख यासीन मलिक की बढ़ी मुश्किलें, 2 साल के लिए हिरासत में रखा जा सकता है

भोसले ने शिवाजी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तुलना करने वाली जय भगवान गोयल की किताब आज के शिवाजी की निंदा की. और शिवसेना को आड़े हाथों लेते हुए  अपने नाम से ‘शिव’ शब्द हटाने और ‘ठाकरे सेना’ नाम रखने की चुनौती भी दे डाली. गौरतलब है कि बीजेपी पहले ही इस किताब से अपना किनारा कर चुकी है. इस पर  केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर साफ कर चुके हैं कि इस विवादित किताब से बीजेपी का कोई लेना देना नहीं है. और तो और मामले के तुल पकड़ने पर लेखक जय भगवान गोयल ने माफी मांगने के साथ ही अपनी किताब को वापस ले लिया है.

जरुर पढ़ें:  प्रियंका गांधी का सुरक्षा घेरा तोड़कर सिक्ख पहुंचा उनके नजदीक, फिर हुआ ये!

शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में इस किताब को लेकर तंज कसते  हुए लिखा कि पीएम मोदी की तुलना छत्रपति शिवाजी से करना पाखंड और चाटुकारिता की हद है. इस पर पलटवार करते हुए शिवाजी वंशज उदयनराजे ने कहा कि महाराष्ट्र की जनता मूर्ख नहीं है, खुद को शिवसेना कहने की बजाय इसे ठाकरे सेना कहें. और तो और उन्होंने शिवसेना से सवाल करते हुए कहा कि  क्या उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली पार्टी ने अपने नाम में ‘शिव’ शब्द लगाते समय उनसे संपर्क किया था?

महाराष्ट्र की ठाकरे सरकार पर जनता को मूर्ख बनाने के आरोप लगते रहते हैं. इसके पीछे की वजह की बात करें तो महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना को सबसे ज्यादा वोट मिले थे लेकिन बहुमत किसी भी राजनीतिक दल को नहीं मिला था. लेकिन मुख्यमंत्री के पद की खींचतान के चलते शिवसेना ने बीजेपी का साथ छोड़कर अपनी विचारधारा से अलग हटकर कांग्रेस और NCP का हाथ थाम लिया था.

जरुर पढ़ें:  वीर सावरकर को मिलेगा भारत रत्न!

 

Loading...