वो 19 के दशक वाले पीएम मोदी याद है आपको. जब उन्होंने मध्यप्रदेश के आदिवासी इलाकों में अपनी पहचान बनाने के लिए वहां कि महिलाओं को फ्री में कमल वाली बिंदीयां बाटी थीजिन्हें गुजरात से बनवाकर मांगा गया था.जिसके बाद हर महिला अपने सर पर कमल सजाएं घुम रही थी. इस नए प्रचार के तरीके से पीएम मोदी ने खूब सुर्खियां बटोरी थी.
कुछ ऐसा ही माहौल देश में 70 साल बाद पहली बार देखने को मिल रहा है, और अब का क्रेज 90 के दशक से कही ज्यादा है देश में चारों और चुनाव का माहौल है, फिर चाहे वो मीडिया हो या सोशल मीडिया, गांव का कोई मोहल्ला हो या कोई गली- नुक्कड़ हर जगह चुनाव का शोर है. इस चुनावी माहौल में जहां नेताओं के भाषाण है तो वहीं बाजार में भी चुनावी रंग चढ़ गया है. दरअसल बाजारों में मोदी के साड़ी, टीर्शट, और केप तो हम सहने देखी ही है लेकिन मार्किट में अब मोदी के नाम वाली बिंदी भी आ चुकी है ।

जरुर पढ़ें:  MP विधानसभा चुनाव : कांग्रेस ने जारी की 17 उम्मीदवारों की अंतिम लिस्ट, जानिए किस-किस को मिला टिकट?

बिंदी के पैकट पर एक तरफ बीजेपी का चुनाव चिन्ह छपा है तो एक तरफ पीएम मोदी की तस्वीर बीच में एक जगह लिखा है पारस फैंसी बिंदी ये बिंदी सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रही है फोटे के वायरल होते ही लोगों ने इसे शेयर करते हुए विपक्ष के समर्थकों पर निशाना साधा तो कही मोदी को ही आड़े हाथों ले लिया ।

कुछ लोगों ने फोटों शेयर करते हुए कहा कि मोदी के भक्तों के लिए मोदीजी बिंदी आ गई है, आगे और क्या-क्या होगा भगवान ही मालिक है तो कही लोगों ने मोदी कि खिल्ली उड़ाते हुए लिखा कि ये लो जी आ गई बिंदी वो भी मोदी जी वाली, चुनाव के दिन पारस बिंदी लगाकर ही जाना. 70 साल में यह पहली हो रहा है जब देश के पीएम की तस्वार कभी साड़ी पर तो कभी बिंदी की पैकिंग पर दिखाई दे रही है.लेकिन भूलिए मत जनाब मोदी है तो सब मुमकिन है ।

Loading...