भोपाल। मध्यप्रदेश में चौथी बार सरकार बनाने के लिए बीजेपी का समृद्ध मध्यप्रदेश अभियान खटाई में पड़ता नजर आ रहा है। जनता से सुझाव मांगने की इस योजना में कई मिनी ट्रक या तो जिलों में पहुंचे ही नहीं है और जो पहुंचे हैं वो सरकारी इंतजार में खड़े हैं। उधर कांग्रेस ने शिकायत कर चुनाव आयोग से इस पर पाबंदी लगाने की मांग कर दी है।

समृद्ध भोपाल की शुरुआत रविवार को भोपाल में हुई, जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत सारे बड़े नेताओं ने करीब पचास मिनी ट्रकों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। मकसद था जनता से समृद्धि का आइडिया लेना। बीजेपी इस योजना से खासी उत्साहित है लेकिन कांग्रेस की शिकायत से दुखी हो गई है। बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा पहले ही दिन 4000 से ज्यादा फोन आए हैं।

जरुर पढ़ें:  कुमारस्वामी के मंत्री के घर आयकर विभाग ने मारा छापा !

कांग्रेस ने अपने शिकायत में कहा है कि सरकार ने आचार संहिता लगने के पूर्व 27 से 5 अक्टूबर तक लगातार विज्ञापन जारी किए हैं। ये विज्ञापन फ्यूचर एमपी टास्क फोर्स के ‘‘आइडिया में हो दम तो पूरा करेंगे हम” शीर्षक से जारी हुआ है। सरकार के और बीजेपी के विज्ञापन में सिर्फ फोन नंबर का फर्क है। ऐसे में कांग्रेस को लगता है ये सब सरकारी पैसे का दुरुपयोग है।

बीजेपी के इस कार्यक्रम पर कांग्रेस प्रवक्ता शोभा ओझा ने कहा जो सरकारी कार्यक्रम थे उसका अपने नाम पर बीजेपी उपयोग कर रही है। जनता को क्या मिला… कुछ नहीं, शर्मनाक है 15 साल में काम क्या किया।

जरुर पढ़ें:  वोटर्स की सुविधा के लिए EC ने लॉन्च किया cVIGIL ऐप, चुनाव में गड़बड़ी की शिकायत कर सकेंगे मतदाता

अब देखना ये होगा कि चुनाव आयोग कांग्रेस की शिकायत पर कोई एक्शन लेती है या फिर बीजेपी इस कार्यक्रम के जरिए लोगों को रिझाने में कामयाब होती है।

Loading...
संतोष सुमन एक ब्लॉग राइटर हैं। वे बेवसाइट के लिए लिखते हैं। इसके साथ-साथ वे कंटेंट की प्रूफ रीडिंग भी करते हैं और सोशल मीडिया एवं SEO Executive भी हैं।