गोपाल राय का कांग्रेस से गठबंधन को लेकर बयान, कहा- पीछे हटने का सवाल ही नहीं उठता..

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के बीच दिल्‍ली में अगामी लोकसभा चुनावों को लेकर गठबंधन की सारी संभावनाएं खत्‍म होती नजर आ रही है. दिल्‍ली में सातवीं सीट पर अपने उम्‍मीदवार की घोषणा करने के एक दिन बाद आम आदमी पार्टी के वरिष्‍ठ नेता एवं दिल्ली के मंत्री गोपाल राय ने एक बार फिर कहा है कि अब पीछे हटने का कोई सवाल नहीं है. उन्‍होंने कहा कि आप ने दिल्‍ली में अपना सातवां उम्‍मीदवार भी घोषित कर दिया है, अब किसी पार्टी से गठबंधन या पीछे हटने का कोई सवाल ही नहीं उठता है.

गोपाल राय ने कहा कि आम आदमी पार्टी ने यह फैसला कांग्रेस के गठबंधन के प्रति गैर ज़िम्मेदार और ढुलमुल रवैया देखने के बाद लिया है. आप ने भाजपा को हराने के मकसद से कांग्रेस संग चुनाव लड़ने के बारे में विचार किया था. लेकिन लंबे समय तक इंतजार करने और कांग्रेस की ओर से ढुलमुल रवैये के कारण हमने निर्णय लिया है कि अब बहुत हो गया. अब कांग्रेस खुद चलकर भी गठबंधन का प्रस्‍ताव लेकर आएगी, तब भी हम उनके साथ हाथ मिलाने के लिए तैयार नहीं होंगे.

जरुर पढ़ें:  10 अगस्त को कांग्रेस चुन सकती है नया अध्यक्ष

उन्‍होंने कहा कि अब कांग्रेस के किसी नेता के साथ उनकी बातचीत नहीं हो रही है. इससे यह साफ हो गया है कि कांग्रेस दिल्‍ली लोकसभा चुनाव को लेकर गंभीर नहीं है. हालांकि, पिछले सप्‍ताह ये अटकलें थीं कि आम और कांग्रेस के बीच दिल्‍ली में गठबंधन हो सकता है. कांग्रेस नेता पीसी चाको भी दिल्‍ली में आप और कांग्रेस के गठबंधन के समर्थन में थे. लेकिन उन्‍होंने कहा कि अंतिम निर्णय राहुल गांधी को लेना था.

गौरतलब है कि ‘आप’ ने दिल्ली की सातवीं सीट (पश्चिमी दिल्ली संसदीय सीट) से बलबीर सिंह जाखड़ को उम्मीदवार बनाने का एलान किया है. आम आदमी पार्टी ने 2 मार्च को दिल्ली की कुल सात लोकसभा सीटों में से छह सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम की घोषणा की थी. इससे पहले पार्टी ने एलान किया था कि पूर्वी दिल्ली से अतिशी, उत्तर पश्चिमी दिल्ली से गुग्गन सिंह, दक्षिणी दिल्ली राघव चड्ढा, उत्तर-पूर्वी दिल्ली दिलीप पांडे, चांदनी चौक पंकज गुप्ता तथा नई दिल्ली सीट से बृजेश गोयल चुनाव लड़ेंगे.

जरुर पढ़ें:  चिदंबरम पर ईडी का शिकंजा, एयरबस खरीद मामले में भेजा नोटिस

 

 

 

Loading...