भोपाल। चुनावी मौसम करवटें ले रहा है। पार्टियां और नेता खूब एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगा रहे हैं। इसमें कहीं किसी नेता की जुबान भी फिसल रही है तो वहीं कुछ केस करने की धमकी भी दे रहे हैं। ताजा मामला है राहुल गांधी बनाम शिवराज सिंह चौहान का। मामा शिवराज और राहुल गांधी के बीच जुबानी जंग और तल्ख हो गई है।

सोमवार को राहुल गांधी ने बीजेपी के गढ़ समझे जाने वाले इंदौर में रोड शो करके अपनी ताकत का अहसास कराया। वहीं झाबुआ में रैली के दौरान उन्‍होंने पनामा पेपर और व्‍यापम का जिक्र करते हुए शिवराज और उनके बेटे कार्तिकेय पर हमला बोला।

जरुर पढ़ें:  राहुल ने कश्मीर पर उठाए सवाल तो राज्यपाल मलिक ने दिया ये करारा जवाब...

बेटे पर आरोप लगने के बाद शिवराज सिंह थोड़े भड़क गए हैं। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्रीशिवराज सिंह चौहान के बेटे कार्तिकेय चौहान ने राहुल गांधी पर मानहानि का केस कर दिया है। राहुल गांधी ने पनामा पेपर्स घोटाले मामले में कार्तिकेय का नाम लिया था। कार्तिकेय ने भोपाल कोर्ट में राहुल गांधी के खिलाफ मानहानि का केस किया है।

इससे पहले मंगलवार को ही शिवराज ने कहा कि अगर कोई छोटा नेता इस प्रकार का बयान देता तो देखा जाता, लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष ऐसी गलत बयानबाजी कर रहे हैं जो दुर्भाग्यपूर्ण है। राहुल गांधी इंदौर में 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर रोड शो किया था। राहुल के रोड शो में कई जगहों पर हर हर महादेव के नारे भी लगे। रोड शो में राहुल ने लोगों से पूछा, ‘क्या इंदौर के दुकानदारों को गब्बर सिंह टैक्स (जीएसटी) से फायदा हुआ?’

जरुर पढ़ें:  बंगाल में भड़की हिंसा के बाद शाह के खिलाफ शिकायत दर्ज, हिरासत में बीजेपी के कई नेता..

दरअसल सोमवार को राहुल गांधी ने एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि ‘मामाजी के जो बेटे हैं, पनामा पेपर्स में उनका नाम निकलता है। पाकिस्तान में पीएम नवाज शरीफ का नाम निकलता है लेकिन पाकिस्तान जैसे देश में उसको जेल में डाल देते हैं मगर यहां चीफ मिनिस्टर का बेटा उसका नाम पनामा पेपर्स में निकलता है तो कोई कार्रवाई नहीं होती।’ हालांकि मामले में मंगलवार को राहुल गांधी ने सफाई दी थी।

इसका जबाव खुद ही देते हुए राहुल गांधी ने कहा कि इस प्रणाली से छोटे दुकानदारों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। उन्होंने घोषणा की कि वर्ष 2019 में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद सही जीएसटी पेश किया जाएगा। उन्होंने एमपी के बीजेपी सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि पिछले 15 साल के बीजेपी शासन काल में मध्यप्रदेश के जनता के लिये कुछ नहीं किया गया बल्कि यहां व्यापम, ई टेंडरिंग जैसे घोटाले हुए।

Loading...