नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को मध्यप्रदेश के दतिया में मां पीताम्बरा शक्ति पीठ पर पूजा-अर्चना की। इस देवीस्थल पर आने वाले गांधी परिवार के वे तीसरे सदस्य हैं। इससे पहले यहां इंदिरा गांधी और राजीव गांधी आए थे। यह शक्ति पीठ राज्य की करीब 28 सीटों पर असर डालती है।

राहुल ने दतिया में एक जनसभा को भी संबोधित किया। उन्होंने कहा कि एक-दो साल पहले मैं मोदीजी के ऑफिस में गया। उनसे किसानों का कर्जा माफ करने के लिए कहा- उनके मुंह से एक शब्द नहीं निकला। यह भी नहीं कहा कि मैं कोशिश करूंगा।

थरूर के 29 अक्षरों वाले शब्द ने ट्विटर पर मचाया तहलका|Shashi Tharoor strikes again

थरूर के 29 अक्षरों वाले शब्द ने ट्विटर पर मचाया तहलका|Shashi Tharoor strikes again

VK News यांनी वर पोस्ट केले शुक्रवार, १२ ऑक्टोबर, २०१८

मोदी सरकार पर आरोप लगाते वक्त राहुल गांधी की जुबान भी फिसल गई। उन्होंने विजय माल्या की बजाय नीरव मोदी का नाम ले लिया और कहा- नीरव मोदी 35 हजार करोड़ रुपए लेकर भाग गया। इससे पहले वह संसद में वित्त मंत्री से भी मिला। नीरव के साथ भागने वाले मेहुल चौकसी को पीएम मेहुल भाई कहते हैं। मैंने पीएम ऑफिस को चिट्‌ठी लिखी थी कि मेहुल भागने वाला है, लेकिन उन्होंने कुछ नहीं किया।

जरुर पढ़ें:  चुनावी चहल पहल के बीच मोदी सरकार का एक और कदम, मुद्रा स्कीम के तहत रोजगार की जानकारी नही होगी जारी..

शत्रुनाश के लिए होता है यहां अनुष्ठान

मां पीताम्बरा को शत्रुनाश की अधिष्ठात्री देवी माना जाता है। यहां राजसत्ता प्राप्ति के लिए अनुष्ठान किए जाते हैं। इस पीठ की स्थापाना 1935 में हुई थी। 1962 में चीन आक्रमण के समय राष्ट्र रक्षा के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने यहां अनुष्ठान कराया था। हालांकि, वे खुद नहीं आए थे। कहा जाता है कि यज्ञ की अंतिम आहुति के साथ ही युद्ध समाप्त हो गया था।

मध्यप्रदेश में मंदिरों के असर वाली 109 सीटें

  • महाकाल दरबार, उज्जैन : 33
  • पीताम्बरा पीठ, दतिया : 28
  • रामराजा दरबार, ओरछा : 11
  • सलकनपुर मंदिर, सीहोर : 9
  • मैहर, कामतानाथ (चित्रकूट) : 28
जरुर पढ़ें:  वायरल पड़ताल : राहुल की रैली में 25 लाख लोगों की भीड़, इंदिरा गांधी की रैली का तोड़ा रिकॉर्ड

Loading...