इंडस्‍ट्री में शोमैन के नाम से मशहूर राजकपूर ने साल 1948 में मुंबई के चेंबूर में एक स्टूडियो की शुरुआत की थी। वो स्टूडियो है RK स्टूडियो। जहां बड़ी-बड़ी फिल्में को फिल्माया गया है। एक्टर राज कपूर ने RK स्टूडियो की शुरुआत की थी। कपूर भाइयों ने हमेशा RK स्टूडियो को अपने दूसरे घर की तरह माना है।

 

RK studio

70 साल से बने इस ऐतिहासिक स्‍टूडियो में 16 सितंबर को आग लग गई थी। ये आग ‘सुपर डांसर’ के सेट पर लगी थी और इसका एक बड़ा हिस्‍सा तबाह हो गया था। घटती आमदनी, बढ़ते खर्च और रखरखाव में कठिनाई के चलते कपूर भाईयों ने इसे बेचने का फैसला किया है।

कपूर फैमिली को लगता है कि इसका रेनोवेशन करवाना सही नहीं है क्योकि इसमें काफी खर्चा आ जाएगा जो की बिल्कुल भी प्रैक्टिकल चीज़ नहीं है।आज हम आपको RK स्टूडियो के बारे में कुछ अनसुनी बातें बताएंगे। ये इतनी ऐतिहासिक इमारत क्यों है क्यों कपूर भाइयों को इसे बेचने में इतना दर्द हो रहा है?

जरुर पढ़ें:  'तख्त' के बाद 'गे लव स्टोरी' बनाएंगे करण जौहर,जाने फिल्म की कहानी!
Film mera naam joker

शुरूआती दिनों में RK बैनर के तले 1948 में फिल्म आग बनाई गई थी जो की इस स्टूडियो की पहली फिल्म जो बॉक्स ऑफिस कमाल नहीं कर पाई थी लेकिन ये स्टूडियो तब सक्सेसफुल बना जब साल 1949 में फिल्म बरसात रिलीज़ हुई। उसके बाद सेये बैनर एक के बाद एक सक्सेसफुल मूवीज देने लगा साल उन्नीस सौ इक्क्यावन में फिल्म आवारा, जागते रहो और श्री 420,मेरा नाम जोकर, बॉबी, राम तेरी गंगा मैली जैसी सक्सेस्फुल मूवीज।
बात करें हैं इस स्टूडियो के लोगो की तो आपको बता दू स्टूडियो का लोगो फिल्म बरसात के एक सीन से लिया गया है।

film’ Bobby’

RK स्टूडियो को इसकी शानदार पार्टियों के लिए भी जाना जाता है जी हां 60’s में राज कपूर ने इस स्टूडियो में एक ग्रैंड होली और गणेशनोत्सव की पार्टी दी थी जिसमे अमिताभ बच्चन,शत्रुघ्न सिन्हा,जीनत आमान,नरगिस जैसे बॉलीवुड स्टार्स भी मेहमानों के रूप में शरीक होते थे।

जरुर पढ़ें:  बिग बॉस के घर में रात के वक्त आया भूत, घर वालों के छूटे पसीने
holi celebration

राज कपूर ने कभी भी इन पार्टीज में मीडिया के लोगो को नहीं बुलाया। क्योकि वो नहीं चाहते थे कि इन पार्टीज का जिक्र अख़बार या फिर किसी मैगज़ीन में हो। एक और अहम फैक्ट इस स्टूडियो का ये है कि साल 1980 में ऋषि कपूर और नीतू सिंह का सेलिब्रेशन पूरे 20 दिन तक चला था। यहाँ तक उनका रिसेप्शन भी इसी स्टूडियो में हुआ था। साल उन्नीस सौ अठासी में राजकपूर के निधन के बाद उनके बड़े पुत्र रणधीर ने स्‍टूडियो की जिम्‍मेदारी अपने कंधों पर ली थी।

 

Holi celebration

एक समय ऐसा भी आया था, जब राज कपूर को आरके स्टूडियो गिरवी रखना पड़ा था। दरअसल, फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ को बनाने के लिए राजकपूर ने काफी पैसाख़र्च किया और इसके लिए आरके स्टूडियो गिरवी तक रखना पड़ा था’मेरा नाम जोकर’ रिलीज के बाद यह फिल्म फ्लॉप साबित हुई, जिससे राज कपूर को गहरा सदमा पहुंचा था। बाद में ऋषि कपूर को लांच करने के लिए बनाई ‘बॉबी’ की कामयाबी से राज कपूर ने आरके स्टूडियो का कर्ज़ चुकाया था।

जरुर पढ़ें:  2019 में स्टारकिड्स की होगी जबरदस्त एंट्री, ये देंगे धमाकेदार टक्कर.

स्टूडियो को बेचने के फैसले पर परिवार की तरफ से ऋषि कपूर ने कहा,’ कपूर परिवार इस फैसले को लेकर काफी भावुक हैं. इससे हमारा एक खास लगाव है लेकिन आनेवाली पीढ़ी का कुछ पता नहीं.’ उन्‍होंने कहा कि छाती पर पत्‍थर रखकर यह फैसला लेना पड़ रहा है.’ रणधीर कपूर ने बताया, हां हमने आरके स्‍टूडियो को बेचने का फैसला किया है. यह बिक्री के लिए उपलब्‍ध है। ‘ बॉलीवुड के लिए दुःख की बाद ये है कि आइकॉनिक आरके स्‍टूडियो कुछ महीनों बाद बस एक सुनहरी याद बनकर रह जाएगा ।

Loading...