अपनी खास अदाओं के दम पर अपने फैन्स के दिलों पर राज करने वाले साऊथ सुपर स्टार रजनीकांत आज अपना 68वां बर्थडे मना रहे है. हाल ही में रजनीकांत की रिलीज हुई फिल्म 2.0 हर तरफ चर्चा में छाई हुई है. फिल्म 2.0 ने रिलीज होते ही बॉक्स ऑफिस पर ताबड़तोड़ कमाई का सिलसिला शुरू कर दिया है. फिल्म ने पहले दिन की कमाई में ही कई रिकॉर्ड तोड़े और बनाए हैं. इसमें रजनीकांत के अलावा बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार भी मुख्य भूमिका में नजर आए.

दोस्तों ये तो आप जानते है कि रजनीकांत अपने खास स्टाइल के लिए जाने जाते हैं. उन्होंने अपने इसी स्टाइल के जरिए फैंस के दिलों में खास जगह बनाई है. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि रजनी ने अपना ये सिग्नेचर सिगरेट फ्ल‍िप स्टाइल कहां से सीखा… नहीं? तो आपको बता दें कि ये स्टाइल रजनीकांत का खुद का नहीं हैं. जी हां, उन्होंने इसे किसी से सीखा है. हाल ही में दिए गए एक इंटरव्यू में रजनीकांत ने बताया कि, उन्होंने ये स्टाइल शत्रुघ्न सिन्हा को देखकर पिक किया था.

जरुर पढ़ें:  राखी को भोजपुरी स्टार ने की KISS करने की कोशिश! देखें वीडियो

रजनीकांत ने बताया कि, जब मैं अपने इस सिगरेट स्टाइल पर काम कर रहा था, तब बेंगलुरू में था. मुझसे पहले शत्रुघ्न सिन्हा इसे अपनी एक हिंदी फिल्म में कर चुके थे. वहीं से मैंने इसे सीखा और इम्प्रोवाइज किया. इस स्टाइल में रजनी अपनी सिगरेट हवा में उछाल देते हैं और वापस होठों में फंसा लेते हैं. उन्होंने बताया कि इसके लिए उन्होंने घंटों मिरर के आगे खड़े होकर प्रैक्ट‍िस की.

वहीं जब रजनी से पूछा गया कि वो बस कंडक्टर से एक्टर कैसे बने? तो उन्होंने बताया कि इसकी शुरुआत बैंगलुरु से हुई. वहां हर साल कर्नाटक परिवहन विभाग की सालगिरह पर हर डिपो को एक नाटक करना होता था. जिस डिपो में रजनीकांत बस कंडक्टर थे, उसे भी नाटक करना था. तो रजनीकांत ने ‘दुर्योधन’ नाटक करने की सोची क्योंकि वो एनटीआर के बड़े प्रशंसक थे.

जरुर पढ़ें:  निक की खुली पोल, एक्स गर्लफ्रेंड को मैसेज करते हुए प्रियंका ने पकड़ा रंगे हाथ..

बता दें कि एनटीआर बहुत बड़े तेलुगु एक्टर, डायरेक्टर और आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्य मंत्री भी रहे थे. रजनी उनकी नकल करते थे और पर उन्होंने एनटीआर की अच्छी नकल उतारी. जिसके बाद उनके साथी ड्राइवर ने कहा कि तुम शानदार एक्टिंग करते हो. ये बस डिपो तुम्हारे लिए सही जगह नहीं है. तुम मद्रास फिल्म इंस्टिट्यूट जाओ. एक दिन तुम बड़े एक्टर बनोगे. उन्होंने रजनी को बड़ा मोटिवेट किया.

जिसके बाद रजनी ने 1973 में मद्रास फिल्म इंस्टिट्यूट में दाखिला ले लिया. जहां उनकी मुलाकात डायरेक्टर के. बालाचंदर से हुई. और उन्होंने अपनी फिल्म ‘अपूर्व रागांगल’ के लिए रजनीकांत को चुन लिया.

Loading...