नई दिल्ली। शाहरुख और गौरी खान जैसी मैजिकल लव स्टोरी बॉलीवुड में कम ही देखने को मिलती है। आज दोनों की शादी को 27 साल पूरे हो गए हैं। बॉलीवुड के किंग खान की मैरिज एनिवर्सरी पर हम आपको बताने जा रहे हैं कि शाहरुख खान और गौरी की लव स्टोरी आसान नहीं थी।

दोनों की लव लाइफ किसी फिल्मी कहानी की तरह ही थी। दोनों की पहली मुलाकात 1984 में एक कॉमन फ्रेंड की पार्टी के दौरान हुई थी। तब शाहरुख सिर्फ 18 साल के थे। शाहरुख ने देखा कि पार्टी में गौरी किसी और लड़के के साथ डांस कर रही हैं। शाहरुख को गौरी पसंद आ गई लेकिन गौरी पार्टी में डांस करने में शर्मा रही थीं। शाहरुख ने हिम्मत जुटाई और गौरी को डांस के लिए पूछा। लेकिन गौरी ने कहा कि वो अपने ब्वॉयफ्रेंड का इंतजार कर रही हैं।

जरुर पढ़ें:  OMG- बॉलीवुड के इन बड़े स्टार्स को भी कास्टिंग काउच से होना पड़ा दो-चार

इतना सुनते ही शाहरुख के सारे सपने चकनाचूर हो गए। लेकिन असलियत तो ये थी कि गौरी का कोई ब्वॉयफ्रेंड नहीं था। गौरी का भाई उनके साथ था। जब शाहरुख को ये बात पता चली तो उन्होंने गौरी से जाकर कहा, ‘मुझे भी अपना भाई समझो।’ तभी से ये खूबसूरत रिश्ता शुरू हो गया। गौरी को भी शाहरुख का स्टाइल और उनका कॉन्फिडेंस बहुत अच्छा लगा।

शाहरुख गौरी के लिए काफी पजेसिव रहते थे। उन्हें पसंद नहीं था कि गौरी अपने बालों को खुला रखें या अकेले में किसी लड़के से बात करें। एक दिन जब गौरी शाहरुख खान के घर पर अपना बर्थडे सेलीब्रेट कर रही थीं तो वो उन्हें बिना बताए दोस्तों के साथ आउट ऑफ स्टेशन चली गईं। तब शाहरुख को एहसास हुआ कि वो गौरी के बिना नहीं रह सकते। शाहरुख ने ये बात अपनी मां को बताई।

जरुर पढ़ें:  शिल्पा शिंदे ने हाथ मिलाया इस एक्टर से हाल ही में हुआ डिवोर्स, आखिर क्या है माजरा ?

शाहरुख की मां ने उन्हें 10 हजार रुपए दिए और कहा कि उसे ढूंढ लाओ। तब शाहरुख अपने कुछ दोस्तों के साथ गौरी को पूरे शहर में ढूंढने के लिए निकल पड़े लेकिन गौरी उन्हें नहीं मिलीं। काफी देर तक ढूंढने के बाद शाहरुख को गौरी एक बीच पर मिलीं। तब दोनों एक-दूसरे के गले लगकर खूब रोए। तब दोनों ने शादी करने का फैसला कर लिया।

दोनों की शादी के बीच सबसे बड़ा विलेन बना उनका रिलीजन। शाहरुख मुस्लिम और गौरी हिंदू ब्राह्मण परिवार से थीं। गौरी के पिता प्योर वेजिटेरियन थे। शाहरुख और गौरी को एक-दूसरे का साथ पाने के लिए काफी स्ट्रगल करना पड़ा। शाहरुख ने गौरी के पैरेंट्स को इंप्रेस करने के लिए पांच साल तक हिंदू होने का नाटक किया। उन्होंने अपना नाम भी बदल लिया था। आखिरकार शाहरुख गौरी के पैरेंट्स को इंप्रेस करने में कामयाब हुए और 25 अक्टूबर 1991 में दोनों की शादी हो गई।

Loading...
संतोष सुमन एक ब्लॉग राइटर हैं। वे बेवसाइट के लिए लिखते हैं। इसके साथ-साथ वे कंटेंट की प्रूफ रीडिंग भी करते हैं और सोशल मीडिया एवं SEO Executive भी हैं।