नाइजीरिया का एक लड़का इंडिया में खूब वायरल हो रहा है. जिसने मनोज तिवारी के गाने ‘रिंकिया के पापा’ को रीमिक्स किया है. ये गाना खूब चर्चा में है. साथ ही इंटरनेट पर खूब सुना और शेयर किया जा रहा है. लेकिन आखिर ये लड़का है कौन, चलिए आपको बताते हैं.

दरअसल, इस नाइजेरियन लड़के का नाम ‘Samuel Adepoju’ है. सैमुअल पहली बार 2010 में, बाईं कलाई में हुए कैंसर के इलाज के लिए इंडिया आए थे. कैंसर के चक्कर में हाथ काटना पड़ा. हाथ तो चला गया लेकिन इंडियन म्यूज़िक का चस्का हाथ लग गया.

2012 में सैमुअल पढ़ाई करने इंडिया वापस आए. पहले कॉलेजों में रैप करते थे, लेकिन इंडियन गानों में दिलचस्पी के चलते अपने पंसदीदा भारतीय गानों को नाइजीरियाई शैली में परफॉर्म करने लगे. और कॉलेज के सेलेब्रिटी बन गए. यहां से सैमुअल का बॉलीवुड से लेकर रीजनल गानों को रीमिक्स करने का सफर शुरू हुआ.

जरुर पढ़ें:  'भारत' का जबरदस्त टीजर हुआ रिलीज ,देखिये सलमान की दमदार एंट्री

सबसे पहले उनका ध्यान खींचा भोजपुरी और पंजाबी गानों ने. तब इंडिया में पॉप गानों के बादशाह यो यो हनी सिंह हुआ करते थे. उनका गाया-बनाया ‘ब्राउन रंग’ चार्टबस्टर बन चुका था. सैमुअल ने वो गाना उठाया और पंजाबी पटियाला में नाइजीरियन पाम वाइन मिक्स कर कॉकटेल बना दिया और भारतीय जनता को भी स्वाद अच्छा लगा.

जिसके बाद सैमुअल को कॉन्फिडेंस आ गया और उन्होंने भोजपुरी का सबसे पॉपुलर ट्रैक ‘लॉलीपॉप लागेलू’ गाया. इसके बाद उन्होंने भयानक तरीके से पसंद किया गया गाना ‘दारु बदनाम’ का मेकओवर किया, और अब ‘रिंकिया के पापा’ को अपने स्वैग और कूल बीट्स के साथ रीमिक्स किया है. जिसे लोगों का अच्छा खासा रिस्पॉन्स मिल रहा है.

जरुर पढ़ें:  एक ऐसा रियलेटी शो जो बना देगा आपको कातिल और रेपिस्ट

अब आपको बताते है कि सैमुअल से इंडियन जनता का कनेक्शन कैसे बना?

दरअसल, हाल ही में दिए गए एक इंट्रवियू में सैमुअल ने बताया कि वो नाइजीरिया में पैदा तो हुए हैं, लेकिन फिर भी दिल है हिंदुस्तानी. उनकी और इंडियन ऑडियंस की गानों का चॉइस सेम है. इस चीज़ ने उन्हें इंडिया से जोड़ा और आवाज़ ने नाइजीरिया से.

बता दें, सैमुअल का इंडिया प्रेम इतना ज़्यादा है कि उन्होंने अपना नाइजीरियन सरनेम हटाकर अपने नाम के पीछे ‘सिंह’ जोड़ लिया है. अपने नाम में सिंह जोड़ने के पीछे का किस्सा सैमुअल ये बताते हैं कि ये उन्हें ‘Sing’ जिसका हिंदी में मतलब होता है गाना. उस से मिलता-जुलता सरनेम लगा ‘सिंह’, इसलिए वो सैमुअल सिंह बन गए.

Loading...