रोबॉट्स को लेकर अक्सर ये बात कही जाती हैं कि उनकी वजह से इंसानों की नौकरी खतरे में पड़ सकती है. लेकिन, आजकल खुद Robots को भी नौकरी गंवानी पड़ रही है. दरअसल, रोबॉट्स के लिए मशहूर हुए जापान के एक होटेल ने बड़ी संख्या में यहां काम करने वाले रोबॉट्स को नौकरी से निकालने का फैसला किया है. खबरों के मुताबिक, Henn-na नाम के इस होटेल में 243 रोबॉट्स काम करते थे, जिनमें से आधों को निकाला दिया गया है. होटेल का कहना है कि रोबॉट्स को काम आसान करने के लिए रखा गया था, लेकिन उनकी वजह से समस्या और बढ़ने लगी थी.

दरअसल यहां आने वाले गेस्ट को शिकायत थी कि खर्राटे लेते ही रोबोट उन्हें जगा देते हैं. गेस्ट के साथ ऐसा रात में कई बार होता है. साथ ही अगर रोबोट रिसेप्शन जैसी जगह बैठा हो तो वो लोगों के सामान्य सवालों का भी जवाब देने में भी नाकाम था.

जरुर पढ़ें:  इस शहर के लोगों को बच्चा पैदा करने पर मिल रहा है नकद इनाम!

जिन रोबॉट्स को निकाला गया है उनमें डॉल के आकार के असिस्टेंट भी शामिल हैं. चुरी नाम के ये रोबॉट्स असिस्टेंट हर कमरे में ये सोचकर रखे गए थे कि स्थानीय जगह को लेकर ये गेस्ट के सवालों का जवाब दे पाएं. लेकिन जब इनसे पूछा जाता कि ‘थीम पार्क किस समय खुलता है’ तो चुरी के पास सही जवाब नहीं होता था. इनसे बेहतर जवाब सीरी, गूगल असिस्टेंट और ऐलेक्सा जैसे वर्चुअल असिस्टेंट दे देते है. ऐसे में होटेल को महसूस हुआ कि ये रोबॉट्स स्टाफ की कमी को पूरा करने की जगह और काम बढ़ा रहे हैं.

इसके अलावा दो डायनासोर जैसे दिखने वाले रोबॉट्स को हटाया गया है, जिन्हें होटेल चेक-इन पर रखा गया था. लेकिन ये गेस्ट के पासपोर्ट या अन्य दस्तावेजों की फोटोकॉपी जैसा काम भी नहीं कर पाते थे.

जरुर पढ़ें:  गजब- कंगाल पाकिस्तान के पूर्व जज के पास मिली 2200 कारें!

वहीं दो रोबॉट्स को गेस्ट का सामान पहुंचाने के लिए रखा गया था, लेकिन ये होटेल के 100 में से सिर्फ 24 कमरों तक ही पहुंच पाते थे. साथ ही बारिश या बर्फबारी के समय ये बंद पड़ जाते थे.

इतना ही नहीं, होटेल के मुख्य दरबान रोबॉट को भी सही जवाब देना नहीं आता था. वो फ्लाइट के शेड्यूल और आसपास घूमने की जगहों जैसे जरूरी सवालों के जवाब नहीं जानता था. इसकी जगह अब इंसान को खड़ा किया गया है.

सेवाओं से हटाए गए कई रोबोट्स होटल में कई सालों से सेवा दे रहे थे और उम्रदराज हो चले थे. इसलिए होटल हिना-ना के मैनेजमेंट ने निर्णय लिया कि रोबोट्स को सर्विस से हटाना ज्यादा बेहतर है बजाय रिप्लेस के. जिसके वजह से अब रोबोट्स की जगह काम का जिम्मा इंसानी कर्मचारियों को सौंपा गया है.

Loading...