अमरीका की तमाम गीदड़ भपकियों और धमकियों को दरकिनार करते हुए मोदी सरकार ने रूस से S-400 मिसाइल डील कर ली है. हालांकि इस डील के होते ही अमरीका से सुर बदल गए थे और उन्होंने भारत को दोस्त बताते हुए उसे नुकसान न पहुंचाने की बात की. लेकिन इसी बीच अब भारत ने अमेरिका को दूसरा झटका दे दिया है. मोदी सरकार ने साफ संकेत दे दिए हैं, कि वो अमेरिकी प्रतिबंधों के बावजूद ईरान के साथ अपना कारोबार जारी रखेगा.

पीएम मोदी और रूसी राष्ट्रपति पुतिन

जीहां खबर है, कि सरकारी रिफाइनर्स ने ईरान से 1.25 मिलियन टन क्रूड ऑयल खरीदने के लिए करार कर लिया है. यही नहीं भारत ने अमेरिकी डॉलर में पेमेंट की जगह रुपये में कारोबार करने की दिशा में भी कदम बढ़ाने की तैयारी कर ली है.
Demo pic India-Iran Relation

दरअसल, अमेरिका ने 4 नवंबर से ईरान से तेल खरीदने वाले देशों पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने की बात की है. हालांकि, ईरान के खिलाफ प्रतिबंध अमेरिका का द्विपक्षीय मसला है, लेकिन अमेरिका इस मामले में पूरी दुनिया को घसीट चुका है. अमेरिका ने चेतावनी दे रखी है, कि अगर कोई देश नवंबर के बाद ईरान के साथ बिजनेस जारी रखता है, तो वो अमेरिका के साथ व्यापार नहीं कर पाएगा. हालांकि, अमरीका की इस चेतावनी के बावजूद मोदी सरकार ने ईरान के साथ बिजनेस जारी रखने का फैसला कर लिया है. ऐसे में रूस के साथ S-400 करार के बाद एक तरह से भारत की ओर से अमरीका को दिया गया ये दूसरा झटका है.
पीएम मोदी के साथ ईरानी राष्ट्रपति हसन रूहानी

आपको बता दें, कि भारत और ईरान के बीच 13 बिलियन डॉलर का व्यापार है, जिसमें भारत 10.5 बिलियन डॉलर का सिर्फ क्रूड आयल आयात करता है. क्रूड़ के अलावा ईरान भारत में फल और ड्राइफ्रूट्स भी निर्यात करता हैं, जबकि 2.5 बिलियन डॉलर का सामान, मशीनरी और कमोडिटीज ईरान को निर्यात करता है. इसमें मशीनरी, इंस्ट्र्मेंट्स, आयरन और स्टील, टैक्सटाइल्स, दवाओं के साथ ही चावल और चाय शामिल हैं. दोनों देशों के बीच ये कारोबार रुपए और रियाल में होता है.
Demo pic

आपको बता दें, कि अमरीका ने रूस और ईरान दोनों ही देशों पर प्रतिबंध लगा रखा है. अमेरिकी सरकार ‘ अमेरिका के विरोधियों से प्रतिबंधों के माध्यम से मुकाबला करने का अधिनियम’ यानी कि सीएएटीएसए के तहत व्यापारिक लेनदेन करने वाले देश पर प्रतिबंध लगा सकती है. लेकिन भारत ने इसकी परवाह किए बगैर अमरीका को आंख दिखाकर न सिर्फ रूस के साथ समझौता किया बल्कि ईरान के साथ भी व्यापार जारी रखने के संकेत दे दिए हैं.

जरुर पढ़ें:  अभिनंदन ने किया खुलासा, पाक में दी गई थी यातनाएं
Loading...