भारत अपनी सैन्य क्षमता को मजबूत करने के लिए एक के बाद एक लगातार सफल परीक्षण कर रहा है. भारत ने नवंबर महीने में कई बार मिसाइल और सैटेलाइट के सफल परीक्षण किए. जिससे पाकिस्तान और सीमावर्ती इलाको में नजर रखने के साथ-साथ जरूरत पड़ने पर तत्काल कार्रवाई की जा सकती है. इसी कड़ी में इसरो ने 27 नवंबर को इतिहास रचते हुए सैटेलाइट कार्टोसैट-3 को  सफलतापूर्वक लांच किया था. इस सैटेलाइट के जरिए भारत लाखों किलोमीटर की दूरी से सीमावर्ती इलाकों पर पैनी नजर रख सकता है. बता दें कि इस सैटेलाइट में इतनी अच्छी क्वीलिटी का कैमरा लगा है जो कि अब तक फिलहाल किसी देश के पास नहीं है. ये तो हुई सैटेलाइट की बात अबबात करते हैं मिसाइल की.

जरुर पढ़ें:  बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने कार्यकर्ता को पिलाया चरणामृत..

DRDO जिसने बीती रात 35 सौ किलोमीटर की मारक क्षमता वाले अग्नि-3 मिसाइल का पहली बार सफल रात्रि परिक्षण किया है. बता दें कि ओडिशा तट के एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप के इंटिग्रेटेड टेस्ट रेंज से ये परीक्षण किया गया है. इसके पहले भी 16 नवंबर को भारत ने 2 हजार किलोमीटर तक मारक क्षमता वाली अग्नि-2 मिसाइल का परिक्षण किया था. इसी कड़ी में DRDO ने ‘अग्नि-3 मिसाइल का चौथा यूजर ट्रायल किया है. बता दें कि इन मिसाइलों का परिक्षण अपनी तैयारी को और भी ज्यादा पुख्ता करने के लिए किया जाता है. इससे मिसाइल के प्रदर्शन में निरंतरता और दोहराव बना रहता है.

जरुर पढ़ें:  ISI एजेंट गिरफ्तार, पाक को दे रहा था भारतीय सेना की गुप्त जानकारी..

अग्नि-3 की बात करे तो इसकी लंबाई 17 मीटर, व्यास 2 मीटर और वजन करीब 50 टन है. इसका नाइट ट्रायल इंडियन आर्मी की स्ट्रैटिजिक फोर्सेज कमांड ने किया है. बता दें कि DRDO अग्नि-3 को लॉजिस्टिक सपॉर्ट दिया है जिसमें 1.5 टन के हथियार ले जाने की क्षमता है. और तो और मिसाइल हाइब्रिड नेविगेशन, गाइडेंस और कंट्रोल सिस्टम से लैस है इस मिसाइल में अत्याधुनिक कंप्यूटर भी लगा हुआ है. भारत के लगातार किए जाने वाले मिसाइल परिक्षण इस बात के गवाह हैं कि भारत हर मोर्चे पर अपनी सुरक्षा के लिए लड़ाई करने के लिए तैयार है. वैसे देखा जाए तो सैटेलाइट और मिसाइल में काफी अंतर है लेकिन इन दोनों का काम सीमावर्ती इलाको में रक्षा करना है. सैटेलाइट की मदद से हर हरकत पर नजर रखी जा सकती है तो वहीं मिसाइल की मदद से इस हरकत को नाकाम किया जाता है. इन परिक्षणों के जरिए पाकिस्तान जैसे देशों को एक सबक मिलता है कि भारत अब किसी भी नापाक हरकत को कामयाब नहीं होने देगा. वैसे तो हमारी पहचान एक शांति प्रिय देश के तौर पर की जाती है लेकिन  भारत अब अशांति फैलाने वाले लोगों को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए तैयार है.

जरुर पढ़ें:  सीएम कमलनाथ ने खेला दांव, बीजेपी की इस सीट से लड़ेंगे चुनाव!

 

Loading...