तेलंगाना में 7 दिसंबर को 119 सीटों के लिए मतदान होना है. जिसको लेकर तमाम राजनीतिक दलों ने चुनाव प्रचार के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी है. और साथ ही स्टार प्रचारकों ने भी अपनी जुबानी जंग तेज कर दी है. हाल ही में तेलंगाना में चुनाव प्रचार के दौरान सीएम योगी ने कहा था कि अगर तेलंगाना चुनाव में बीजेपी जीत कर आती है तो असदुद्दीन ओवैसी को यहां से उसी तरह भागना पड़ेगा जैसे हैदराबाद के निजाम को भागने के लिए मजबूर होना पड़ा था.

लेकिन सीएम योगी के इस बयान के आने के बाद से ही चुनावी मौसम में बयार गर्म गई है. इस बीच असदुद्दीन ओवैसी के छोटे भाई अकबरुद्दीन ओवैसी ने भी पीएम मोदी को लेकर अभद्र भाषा का प्रयोग करते हुए बयान दे डाला है. उन्होनें कहा कि ‘वो मुसलमान हैं जिसके सामने चायवाला भी झुकने के लिए मजबूर हो गया. हमें मत छेड़ो चायवाले, चाय चाय चाय बोल रहा है। हमको छेड़ो मत, अरे तुमने क्या किया.

जरुर पढ़ें:  सऊदी अरब में अमेरिका तैनात करेगा 200 सैन्य टुकड़ियां, जानिए वजह...

आगे कहा कि बात करे कि चाय, चाय, चाय, चाय। नोटबंदी, ये चाय वो चाय, कड़क चाय, नरम चाय, चाय, चाय की केतली, चाय का पानी, चाय की पत्ती, चाय का चूल्हा, चाय चाय चाय। ये वजीरेआजम है या क्या है? चायवाला था, अब वरीजेआजम है, अरे वजीरेआजम जैसा बन जाओ।’

राजनीति का नशा इतना बुरा होता है कि सत्ता पाने के लिए नेता कुछ भी बोल देता है. हद तो तब पार हो गई जब अकबरुद्दीन ओवैसी ने सभा में बैठे लोगों से चाय चाय कह करके नकल उतरवाई.

साथ ही सीएम योगी के बयान पर असदुद्दीन ओवैसी ने भी पलटवार करते हुए कहा है कि ये मुल्क मेरे बाप का है, कोई यहां मुझे भगा नहीं सकता. आगे कहा कि मेरे अब्बा जब जन्नत से निकलकर दुनिया में पहला कदम रखे तो हिंदुस्तान में रखे, ये हिंदुस्तान मेरे बाप का मुल्क है कोई भी मुझे यहां से नहीं निकाल सकता है.

जरुर पढ़ें:  यूपी के बाद अब रातों रात पश्चिम बंगाल के इस जगह का नाम बदल गया.

आपको ये भी बता दें कि ओवैसी इस बार टीआरएस पार्टी का समर्थन कर रहे हैं. उसकी वजह है. तेलंगाना बनने के बाद जब पहले चुनाव हुए थे,  तो उस वक्त राज्य के मुसलमानों के एक बड़े हिस्से ने टीआरएस को ही वोट दिया था. टीआरएस के साथ इस चुनाव में भी मुसलमानों के बेहतर रिश्ते नजर आ रहे हैं. और ओवैसी का समर्थन मिल जाने से ये रिश्ता और भी गाढ़ा होता हुआ नज़र आ रहा है.

साथ ही सीएम केसीआर मुस्लिम वोटर्स के बीच ये कहते हुए भी नजर आ रहे हैं कि ‘आप लोगों के बीच हमारे गारंटर ओवैसी साहब हैं. दरअसल आमतौर पर अधिकांश मुस्लिमों की हैदराबाद में पहली पसंद ओवैसी और दूसरे हिस्सों में टीआरएस है. नेताओं की इस तरह बयानबाजी पर आपकी क्या राय है कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं.

जरुर पढ़ें:  राधे मां का ये नया वीडियो देखा क्या? सोशल मीडिया पर मचा रखी है धूम

Loading...