जैसे जैसे 2019 लोकसभा चुनाव नज़दीक आते जा रहे हैं वैसे ही राम मंदिर का मुद्दा भी गरमाना शुरू हो गया है. वो इसलिए क्यों कि हाल ही में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम मंदिर मुद्दे को लेकर सुप्रीम कोर्ट को चुनौती देते कहा कि अगर कोर्ट इसका हल नहीं निकाल पा रहा तो ये जिम्मेदारी हमें सौंप दे. 24 घंटे के अंदर हम इस मुद्दे को सुलझा देंगे.

सीएम योगी के राम मंदिर मुद्दा सुलझाने वाले दावे पर पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने तंज किया है. उन्होंने कहा कि वे पहले 90 दिनों में सांड से किसानों की फसल बचाकर दिखाएं. एक समाचार न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक, अखिलेश यादव ने सीएम योगी के बयान पर कहा, “हमने अभी-अभी 26 जनवरी मनाया है. यदि कोई मुख्यमंत्री 26 जनवरी के अवसर पर ऐसी बात कहते हैं तो आप ये अनुमान लगा सकते हैं कि वे किस तरह के मुख्यमंत्री हैं.”

जरुर पढ़ें:  इस महिला डीएम के कारनामें की क्यों हो रही है, प्रशंसा?

इसके साथ ही सपा प्रमुख ने तंज करते हुए कहा, “यदि सीएम योगी 24 घंटे के अंदर राम मंदिर मुद्दा सुलझाने का दावा करते हैं तो मैं कहना चाहता हूं कि जनता उन्हें 90 दिनों का समय दे रही है. वे सांड से फसल बचाने के लिए कुछ करें. सबसे पहले किसानों को बचाने की जरूरत है.”

दरअसल, अखिलेश यादव रविवार को प्रयागराज पहुंचे और यहां उन्होंने कुंभनगर के संतों से मुलाकात की. अखिलेश यादव ने राजा हर्षवर्धन का उदाहरण देते हुए कहा कि जिस तरह से उन्होंने इस मेले में अपना सबकुछ दान कर दिया था, उसी तरह सीएम योगी को अकबर का किला दान कर उसे आम जनता के लिए खोल देना चाहिए. अक्षयवट किला और सरस्वती कूप को कुंभ में दान कर देना चाहिए.

जरुर पढ़ें:  प्रियंका गांधी वाड्रा को लेकर अब बीजेपी की नेता साध्वी प्राची के बिगड़े बोल

अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर तंज करते हुए कहा कि ये कुंभ तभी सफल होगा जब बेरोजगार युवकों को नौकरी मिलेगी. किसानों के घर खुशहाली आएगी. आज सांडों की वजह से राज्य के किसान परेशान हैं. सरकार को किसानों की फसल बचाने के लिए ठोस कदम उठाने चाहिए.

बता दें कि सीएम योगी ने राम मंदिर को लेकर एक निजी चैनल को दिए इंटरव्यू में कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट जल्द ही इस मामले पर फैसला नहीं सुना सकती है तो यह काम हमारे हाथ में सौंप दे. 24 घंटे के अंदर राम मंदिर का मामला सुलझा दिया जाएगा. मैं अदालत से यह अपील करूंगा कि राम मंदिर मामले पर जल्द से फैसला करें.

जरुर पढ़ें:  #MeToo महानायक अमिताभ बच्चन पर लगाया गंभीर आरोप

अनावश्यक रूप से इस मामले में देर की जा रही है. इस फैसले से करोड़ों लोगों को संतोष मिलेगा क्योंकि यह उनकी आस्था का सवाल है. अनावश्यक देरी की वजह से लोगों का धैर्य और भरोसा टूट रहा है. सीएम योगी ने आगे कहा कि इन सबकी जड़ कांग्रेस है. यदि अयोध्या मामला सुलझ जाएगा, तीन तलाक पर रोक लागू हो जाएगी तो कांग्रेस की तुष्टिकरण की राजनीति हमेशा के लिए समाप्त हो जाएगी.

Loading...