नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष मानवाधिकार संस्था में शुक्रवार को भारत तीन साल के लिए सदस्य चुन लिया गया. एशिया-प्रशांत श्रेणी में भारत को सबसे ज्यादा 188 वोट मिले हैं. भारत 1 जनवरी से कार्यकाल की शुरुआत करेगा. 193 सदस्यीय महासभा ने यूएन मानवाधिकार परिषद के लिए नए सदस्यों का चुनाव किया. इसमें गुप्त मतदान के जरिए 18 नए सदस्यों को चुना गया.

इसमें भारत ने सबसे वोट हासिल कर जीत दर्ज की. बता दें कि परिषद में चुने जाने के लिए किसी भी देश को कम से कम 97 वोटों की जरूरत थी. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में भारत को सबसे ज्यादा वोटों से निर्वाचित किए जाने पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने खुशी जाहिर की है.

जरुर पढ़ें:  जानिए कितना खर्च करना पड़ेगा आपको स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को देखने के लिए

उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘मुझे यह जानकारी देते हुए खुशी हो रही है कि भारत संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में सबसे ज्यादा वोटों से चुन लिया गया है. हमने 193 में से 188 वोट हासिल किए.’

एशिया-प्रशांत क्षेत्र से कुल पांच सीटें मानवाधिकार परिषद के लिए हैं, जिनके लिए भारत के अलावा बहरीन, बांग्लादेश, फिजी और फिलीपीन ने अपना नामांकन भरा था. 5 सीटों के लिए 5 ही दावेदारों के होने से सभी का निर्विरोध निर्वाचन पहले से ही तय था.

बता दें कि भारत पहले भी 2011-2014 और 2014 से 2017 में दो बार संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का सदस्य रह चुका है.

Loading...