पंजाब में अमृतसर के पास शुक्रवार को रावण दहन के दौरान भयावह ट्रेन हादसा हुआ. हादसे में 59 लोगों की मौत हो गई. यहां रावण दहन कार्यक्रम का आयोजन सौरभ मदन ने किया था. वह वार्ड काउंसिलर विजय मदन के पति हैं.

काउंसलर विजय मदन को कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू के परिवार का करीबी माना जाता है. कार्यक्रम में सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर मुख्य अतिथि के तौर पर भी बुलाई गई थीं.

चश्मदीदों के मुताबिक कांग्रेस सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू रावण दहन के इस कार्यक्रम में मौजूद थीं और जैसे ही हादसा हुआ वह मौके से भागकर सुरक्षित जगह पर पहुंच गईं.

जरुर पढ़ें:  अम़ृतसर रेल हादसा : हादसे का सबसे दर्दनाक पहलू आया सामने, आंखे हो जायेगी नम

लेकिन नवजोत कौर ने कहा है कि वहां से निकलने के 15 मिनट बाद उन्हें हादसे के बारे में पता चला और वह घटनास्थल पर लौटने के लिए तैयार थीं. लेकिन कमिश्नर ने बताया कि वहां पथराव हो रहा है और इसी वजह से वो अस्पताल आकर घायलों का हाल-चाल लेने लगीं.

ट्रेन जालंधर से अमृतसर आ रही थी तभी जोड़ा फाटक पर यह हादसा हुआ. मौके पर कम से कम 300 लोग मौजूद थे जो पटरियों के निकट एक मैदान में रावण दहन देख रहे थे.

अधिकारियों के मुताबिक, रावण के पुतले को आग लगाने और पटाखे फूटने के बाद भीड़ में से कुछ लोग रेल की पटरियों की ओर बढ़ना शुरू हो गए जहां पहले से ही बड़ी संख्या में लोग खड़े होकर रावण दहन देख रहे थे.

जरुर पढ़ें:  सरदार पटेल की 'मूर्ति स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' गुजरात के किसानों के लिए क्यों बन गई है मुसीबत?

हालाकिं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों के लिये दो-दो लाख रूपये और घायलों के लिये 50 हजार रूपये के मुआवजे का ऐलान किया है.

साथ ही मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने घटना की जांच के आदेश दिये हैं. उन्होंने कहा, अभी मुझे नहीं पता है कि रेलवे स्टेशन के बगल में रावण का यह पुतला क्यों बनाया गया था. लेकिन प्रशासन इसे देखेगा, हम इसकी जांच करेंगे.

Loading...