रोजगार का दावा करने वाली बीजेपी की खुली पोल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश में हो या विदेश में अपने संबोधन में बीजेपी सरकार के दैरान यूवाओं के लिए शिक्षा और रोजगार के क्षेत्र में किये गए कामों की चर्चा जरूर करते है. पर देश में नौकरियों का कितना बुरा हाल है वह आपको इस खबर पढ़कर समझ आएगा.  महाराष्ट्र में अभी बीजेपी कि सरकार है और यहा के मंत्रालय (राज्य सचिवालय) ने वेटर के 13 पदों पर भर्ती निकाल थी.

ये भर्ती चौथी पास उम्मीदवारों के लिए निकाली गए थी. जिसमें 7000 हजार से ज्यादा उम्मीदवारों ने आवेदन किया है. लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी इन पदों पर आवेदन करने वाले ज्यादातर उम्मीदवार चौथी पास नहीं बल्कि ग्रेजुएट हैं. जी हां, उन सभी उम्मीदवारों ने किसी न किसी कॉलेज या यूनिवर्सिटीज से ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त की है. बता दें, ऐसी नौकरी के लिए बड़ी संख्या में अयोग्य आवेदन होने की वजह से साफ नजर आ रहा है कि इस समय महाराष्ट्र में बेरोजगारी की स्थिति क्या है.

जरुर पढ़ें:  तेलंगाना चुनाव : सीएम योगी ने असदुद्दीन ओवैसी को लेकर दे डाला ये बड़ा बयान!

जानें- मंत्रालय कैंटिन में क्या था सेलेक्शन प्रोसेस

एक सरकारी अधिकारी ने कहा कि हाल ही में वेटर के पदों के लिए 100 अंकों की लिखित परीक्षा आयोजित की गई थी. इन पदों पर आवेदन करने की आवश्यक शैक्षणिक योग्यता कक्षा 4 पास थी. ये परीक्षा 31 दिसंबर को पूरी हो गई और अभी  इसमें शामिल होने की प्रक्रिया जारी है.

चुने गए 13 उम्मीदवारों में से आठ पुरुष और बाकी महिलाएं हैं. वहीं दो-तीन लोगों ने अभी तक अपने डॉक्यूमेंट्स जमा नहीं कराएं हैं. इसलिए आधिकारिक रूप से भर्ती की प्रकिया उनके लिए शुरू नहीं की गई है.

ग्रेजुएट्स ने किया आवेदन

आधिकारी ने बताया चुने गए 13 उम्मीदवारों में से 12 उम्मीदवारों ने ग्रेजुएट की है और 1 उम्मीदवार ने 12वीं पास की है.  चुने गए उम्मीदवारों की उम्र 25 से 27 सा के बीच है. ऐसे में ये साफ दिखाई दे रहा है जहां ये भर्ती चौथी पास के लिए थी वहीं सारे आवेदक ग्रेजुएट और 12वीं पास है.

जरुर पढ़ें:  राम मंदिर पर कोर्ट के निर्णय के बाद आरएसएस का बयान, जानिए क्या कहा RSS ने

वहीं मंत्रालय कैंटीन में वेटर के रूप में ग्रेजुएट उम्मीदवारों की भर्ती करने पर राज्य सरकार की निंदा करते हुए विधान परिषद में विपक्ष के नेता धनंजय मुंडे ने कहा कि मंत्रियों और सचिवों को शिक्षित व्यक्तियों की सेवाएं बातौर वेटर लेने में शर्म आनी चाहिए.  नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (NCP) नेता ने कहा, “केवल 13 पदों के लिए 7000 आवेदक देश और महाराष्ट्र में रोजगार की स्थिति का एक स्पष्ट उदाहरण हैं.

वहीं ये दुर्भाग्य और शर्म की बात है कि जहां इन पदों के लिए उन ग्रेजुएट्स उम्मीदवारों का चयन किया गया. जबकि इवन पदों के लिए केवल चौथी पास शैक्षणिक योग्यता चौथी पास रखी गई थी. वहीं उन्होंने ये जानने की कोशिश की आखिर ग्रेजुएट्स से मंत्रियों और सचिवों को भोजन, चाय और नाश्ता लेना कैसा लगता है.

जरुर पढ़ें:  राफेल मामले में पुनर्विचार याचिकाओं पर सुनवाई पूरी, सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा

 

वहीं एनसीपी नेता ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने कार्यकाल में 2 करोड़ से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान करने पर सवाल उठाते हुए कहा-  “हाल ही में महाराष्ट्र में, 10.52 लोगों ने 852 पुलिस पदों के लिए आवेदन किया था.  इसी तरह, रेलवे में 10,000 पदों के लिए एक करोड़ बेरोजगार युवाओं ने आवेदन किया था.

मोदी सरकार पर कसा तंज

इस पूरे सिलसिले पर महाराष्ट्र के नेता धनंजय मुंडे  ने कहा साल 2018 में, एक करोड़ लोगों ने अपनी नौकरी खो दी, जिसमें से 65 लाख महिलाएं थीं, जिसमें मेक इन इंडिया, मेक इन महाराष्ट्र, स्किल इंडिया जैसे कार्यक्रम   फेल हो गए थे.  मुंडे यहीं नहीं रुके उन्होंने मोदी सरकार की नोटबंदी और जीसीएटी पर तंज कसते हुए कहा- कि नोटबंदी और जीएसटी जैसे फैसलों ने छोटे और मीडियम उद्योगों को खत्म कर दिया था, जिसके कारण बेरोजगारी में वृद्धि हुई है.

 

Loading...