यूपी में लोकसभा कि सबसे जदा सिटे है.यही कारण है कि जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव पास आते जा रहे है सभी पर्टिया यूपी में अपनी पकर मजबुत करने कि कोशिश कर रही है.इसी करी में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के घर पर देर रात बड़ी बैठक हुई. दो घंटों तक चली मीटिंग में सीएम योगी आदित्यनाथ, दोनों डिप्टी सीएम केशव मौर्य और दिनेश शर्मा मौजूद रहे. बाद में केन्द्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल और हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर भी शामिल हुए. जिसमें बीजेपी की यूपी ईकाई की रिपोर्ट पर लंबी चर्चा हुई. इस रिपोर्ट में 29 सांसदों के टिकट काटने की सिफ़ारिश की गई है.

जरुर पढ़ें:  कुंभ 2019 में आए बाबा बन रहे आकर्षण का केंद्र

ये सिफारीश बिजेपी द्वारा कराए गए एक सर्वे के आधार पर कि गई है. बीजेपी के दो सांसदों ने इस बार लोकसभा चुनाव न लड़ने की इच्छा ज़ाहिर की है. वहीं कई ऐसे एमपी हैं जिनका रिपोर्ट कार्ड ख़राब है. उनके बदले किसी और को चुनाव लड़ाने की सिफ़ारिश की गई है. ओडिशा के दौरे से लौटे योगी आदित्यनाथ को बीजेपी अध्यक्ष की ओर से दिल्ली बुला लिया गया था. जबकि डिप्टी सीएम केशव मौर्य मेरठ से लौट कर पहले से दिल्ली में ही थे. दूसरे डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा मंगलवार से ही यहां मौजूद थे. जिन सांसदों के टिकट काटे जा सकते हैं, उनके नाम का ख़ुलासा इसीलिए नहीं किया जा रहा है. क्योंकि वे अपनी टिकट बचाने के लिए दिल्ली का चक्कर ना लगाने लगें.सीएम योगी और दिनेश शर्मा अमित शाह के घर से करीब ढाई घंटे के बाद निकले.

जरुर पढ़ें:  उत्तर प्रदेश में खनन माफियाओं के खिलाफ बड़ी कार्यवाही

प्रधानमंत्री किसान निधि योजना पर भी बैठक में चर्चा हुई. 24 फ़रवरी को गोरखपुर से पीएम नरेन्द्र मोदी इस योजना की शुरूआत कर रहे हैं. मोदी सरकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत किसानों को 2000 रुपये की पहली किस्त 24 फरवरी को सीधा बैंक खाते में भेज सकती है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस योजना की शुरुआत करेंगे और करीब 1 करोड़ किसानों को खाते में पैसा भेजा जाएगा. किसान सम्मान निधि योजना की घोषणा केंद्रीय वित्त मंत्री रहे पीयूष गोयल ने अंतरिम बजट में की थी.

Loading...