देवकीनंदन ठाकुर पहली बार राम मंदिर और SC/ST एक्ट को लेकर इस तरह भड़के बीजेपी पर

इन दिनों राम मंदिर के निर्माण का मुद्दा सियासत के गलियारों में खूब गूंज रहा है. जहां एक तरफ सुप्रीम कोर्ट ने मात्र 3 मिनट की हालिया सुनवाई में इस मामाले को जनवरी 2019 के लिए टाल दिया तो वहीं इस सुनवाई पर बीजेपी नेती कोर्ट को गलत ठहरा रहे हैं. और साथ ही नाराज़ तमाम हिंदू संगठन राम मंदिर के निर्माण के लिए इस मामले पर केन्द्र सरकार को विधेयक लाने के लिए घेर रहे हैं.

यही नहीं बल्कि राम मंदिर निर्माण पर केन्द्र सरकार को विधेयक लाने को लगातार आवाज़ उठा रहे प्रसिद्ध कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर ने नाराज़ होकर अपनी अलग पार्टी ही बना ली. इन सब बातो के बीच अब देवकीनंदन का एक बड़ा बयान सामने आ गया जो बीजेपी को कटघरे में खड़ा करता हुआ नज़र आ रहा है.

दरअसल विश्व शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के संस्थापक एवं कथा वाचक देवकीनंदन ठाकुर ने शनिवार को यूपी के कानपुर में कहा कि उनके लिए राम मंदिर और कथा महत्वपूर्ण हैं. राम के भारत में राम को थोड़ी सी जगह देने के लिए भीख मांगनी पड़ रही है. बोले कि मैं कभी पार्टी नहीं बनाऊंगा, न ही कभी चुनाव लडूंगा. उन्हें जो भी कार्य करने होंगे वह अखंड भारतीय मिशन के माध्यम से करेंगे.

जरुर पढ़ें:  अयोध्या राम जन्म भूमि मामले में सुनवाई थोड़ी देर में, किसके हाथ लगेगी बाजी?

देवकी नंदन ठाकुर ने आगे कहा कि केंद्र सरकार संसद के शीत कालीन सत्र में मंदिर बनाने के लिए अध्यादेश लेकर आए ताकि यह पता लगे कि कौन राम-मंदिर के साथ है और कौन खिलाफ. इससे सबके इरादे जनता के सामने होंगे. राम-मंदिर का निर्माण होने से देश को मानवता सीखने का मौका मिलेगा. विदेशी आक्रमणकारियों ने मंदिर का विध्वंस कर वहां निर्माण कराया था.

उन्होंने कहा भाजापा जब केंद्र में नहीं होती है तो सवर्णों से भीख मांगती है और जब केंद्र में आ जाती है, तो सवर्णों को भूल जाती है. आगरा में हुई गिरफ्तारी के सवाल पर उन्होंने कहा यदि मुझे राजनीति करनी होती या पार्टी बनानी होती, तो जब मुझे हिरासत में लिया गया तब मैं कुछ करता. वो सबसे अच्छा मौका था. पूरा देश मेरे साथ था, पर मैंने ऐसा कुछ नहीं किया. मैं कुछ दिन बाद ही कथा कहने के लिए अमेरिका चला गया.

जरुर पढ़ें:  IPS की एक झलक पाने के लिए पंजाब से भागकर उज्जैन आई लड़की, जानें क्या है खास?

गंगा नदी में प्रदूषण पर देवकी नंदन ठाकुर ने कहा गंगा सिर्फ एक नदी नही हैं. यह हमारी जीवन धारा है. ये हमारी संस्कृति और हजारों  साल पुरानी हिन्दू सभ्यता का प्रमाण है. गंगा को साफ करने में सरकार ने अरबों रुपये पानी की तरह बहा दिए पर इसका कोई नतीजा नहीं निकला. कानपुर में गंगा की हालत देख कर मन द्रवित हो जाता है. कैसे यहां के लोग अपना मल मूत्र जीवनदायनी नदी में प्रवाहित होने दे सकते हैं. गंगा नदी में प्रदूषण को दूर करने के लिए लोगों को जागरूक होने की जरूरत है.

रविवार को कथा स्थल से गंगा घाट तक पैदल यात्रा कर कथावाचक देवकीनंदन ठाकुर गंगा आरती करेंगे. उन्होंने कहा कि हम पैदल शांति यात्रा के जरिए केंद्र सरकार को बताना चाहते हैं कि यह हमारे राम के लिए है. हम अपने राम का मंदिर बनाने के लिए आपसे भीख मांग रहे हैं. हम मां गंगा से प्रार्थना करेंगे कि हमारे राम का मंदिर बनने के लिए हमारी सहायता करें. उन्होंने इस धर्म यात्रा में युवाओं से शामिल होने का आह्वान किया.

जरुर पढ़ें:  सीएम योगी ने राम मंदिर को लेकर किया बड़ा एलान, कहा- दीवाली से पहले मिलेगी खुशखबरी!

एससी-एसटी एक्ट में हुए परिवर्तन के लिए उन्होंने कहा कि मैं इस एक्ट का विरोध नहीं कर रहा हूं. मेरा कहना है कि बिना जांच के गिरफ्तारी नहीं होनी चाहिए, जांच के बाद ही गिरफ्तारी होनी चाहिए. मैं दलित भाइयों के विरोध में नहीं हूं, और सवर्ण भाइयों का साथ भी नहीं छोड़ा है. देवकीनंदन ने कहा नेता अपनी राजनीतिक रोटियां सेंकने के लिए समाज को बांट रहे हैं. उन्होंने नेताओं पर देश को बांटने के आरोप लगाये.

Loading...