आतंकवाद से निजात पाना मौजूदा सरकार की सबसे अहम रणनीतियों में से एक है. सरकार ने आतंकवादियों पर लगाम कसने के लिए कई कानूनों में बदलाव भी किया है. लेकिन भारत सरकार और बाकी एजेंसियों को भी इस आतंक के पीछे की असली वजह का पता नहीं चल पाया है. पाकिस्तान को आतंक का गढ़ मानने वालों की आंखो की पट्टी खोलने के लिए एक शख्स ने जबरदस्त खुलासा किया गया है. जिसे सुनकर आप भी कन्फ्यूज हो जाएंगे कि क्या ऐसा भी हो सकता है. जी हां एक शख्स हैं जिन्हें ये पता चल गया है कि भारत में आतंकवाद क्यों बढ़ रहा है.

जरुर पढ़ें:  प्रीति जिंटा क्यों हुईं गाय की फैन, देखिए वीडियो...

हीं नहीं उन्होंने इससे निपटने का रास्ता भी खोज निकाला है. पेजावर मठ के स्वामी विश्वेश तृतीयथा का मानना है कि आतंकवाद की असली भारत का राष्ट्रीय पशु बाघ है. दरअसल पेजावर मठ के स्वामी विश्वेश तृतीयथा ने भारत में आतंकवाद बढ़ने की वजह राष्ट्रीय पशु बाघ को बताया है. कर्नाटक के उडुपी में इन्होंने कहा कि ‘बाघ और आतंकवादियों की विशेषता एक ही होती है. हमने बाघ को अपना राष्ट्रीय पशु मानकर गलती की है हमें गाय को राष्ट्रीय पशु मान लेना चाहिए.’ इसका कुल मिलाकर मतलब ये है कि गाय को जैसे ही राष्ट्रीय पशु बनाया जाएगा आतंकवाद रुक जाएगा. महंत का कहना तो ये भी है कि आतंकवाद के खिलाफ दुनिया भर को सारी लड़ाई खत्म कर देनी चाहिए और गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करना चाहिए.

जरुर पढ़ें:  अब अमेरिका में जन्मे बच्चे को नहीं मिलेगी नागरिकता, ट्रंप लाएंगे नया कानून

महंत के अनुसार इसके बाद तो आतंकवाद से जुड़ा सारा मसला ही खत्म हो जाएगा. ऐसे बयानों के जरिए हमें आतंकवाद से निजात भले ही न मिले लेकिन जहां एकतरफ आतंकवाद से लड़ने के लिए पूरी दुनिया जुगत भिड़ा रही है उस बीच गाय को सबका उपाय बताना भी अपने आप में ही अजीब होने के साथ-साथ अनोखा बयान है. हालांकि कर्नाटक के इस संत समागम में बाबा रामदेव भी मौजूद थे. जिन्होंने ग्लोबल वार्मिंग बढ़ने की वजह मांसाहार को बताया. इतना ही नहीं उन्होंने गोहत्या पर रोक लगाने के लिए कड़े कानूनों की मांग भी की.

 

Loading...