कुर्सी गंवाने के बाद भी पूर्व सीएम शिवराज सिंह ने कड़ाके की ठंड में किया ये जबरदस्त कारनामा!

बेशक शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश में सीएम पद की कुर्सी गंवा दी हो. लेकिन शिवराज के ठाट-बाट वहीं है जो आज से 15 साल पहले थे. यानी कि प्रदेश की जनता से मिलना और उनकी समस्याओं को सुनना उनका वही अंदाज आज भी बरकरार है.

वो इसलिए क्यों जब हालही में कुछ किसान पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मिलने पहुंचे तो वो चौपाल लगाकर किसानों के साथ जमीन पर ही बैठ गए. और इस दौरान उन्होने किसानों की समस्याएं भी सुनीं. लेकिन इससे भी दिलचस्प शिवराज सिंह चौहान का एक और ऐसा वाकया सामने आया है जिसे देखकर आप भी हैरान रह जायेंगे.

दरअसल मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान देर रात कड़ कड़ाती सर्दी में राजधानी भोपाल की सड़कों पर आम जनता का हालचाल जानने निकले. साथ ही इसी दौरान पूर्व सीएम ने अलावे पर ताप रहे आमलोगों के साथ बैठकर बीतचीत की. और उनकी समस्याओं को जाना.  इसके साथ ही वे गरीब-बेसहारा लोगों के लिए बनाए गए रैन बसेरों में भी लोगों की राजी खुशी पूछने पहुंचे. जब शिवराज सिंह को गरीब-बेसहारा लोगों ने अपने बीच इस तरह देखा तो वो खुशी से फूले नहीं समाए.

जरुर पढ़ें:  घोड़ी पर सवार होकर इस तरह विवाह रचाने पहुंची दुल्हन

दरअसल जब सूबे के पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान को कार्यकर्ताओं और समर्थकों से फुर्सत मिली तो शिवराज अपने काफिले के साथ रात को ही भोपाल की सड़कों पर निकल पड़े. सबसे पहले गाड़ियों का काफिला पुराने भोपाल के सुल्तानिया अस्पताल के सामने बने रैन बसेरा पहुंचा. तो यहां आकर शिवराज सिंह ने पहले तो अलाव के पास बैठे लोगों से बातचीत की और उनकी समस्याएं सुनीं.

फिर करीब 15 मिनट यहां रुकने के बाद शिवराज भोपाल के ही न्यू मार्केट इलाके में बने रैन बसेरे की ओर जाने लगे तो सुल्तानिया अस्पताल के बाहर एक शख्स ने उन्हें रोका और सेल्फी लेने की जिद करने लगा. और शिवराज सिंह ने भी उसे निराश नहीं किया. बल्कि उसके साथ खुशी- खुशी सेल्फी ली.

जरुर पढ़ें:  राफेल पर रार, राहुल मिलेंगे एचएएल कर्मचारियों से, करेंगे बातचीत

रैनबसेरों का दौरा करने के बाद शिवराज सिंह चौहान ने अपने ट्वीट हैंडल पर इऩ तस्वीरों को साझा किया और एक कैप्शन भी लिखा. जिसमें लिखा, कि रैनबसेरों में जो अपनापन, स्नेह और आशीर्वाद मिलता है. उसे शब्दों में बयां नहीं कर सकते, अद्भुत अविस्मरणीय प्रेम है आप लोगों का, इसके लिए हृदय से आभार’.

आप खुद सोचिए जहां एक तरफ मध्यप्रदेश में इन दिनों कड़ाके की ठंड पड़ रही है और अधिकतर शहरों में तापमान 6 डिग्री सेल्सियस के आसपास बना हुआ है तो वहीं पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान का इस तरह गरीब- असहाय लोगों के बीच जाना और उनका समस्याएं सुनना क्या राजनीति में एक नई किरण उदय करना जैसा नहीं है. सीएम पद की कुर्सी गवांने के बाद भी शिवराज सिंह के ऐसे दिलचस्प कारनामो पर आपकी क्या राय है. कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं.

जरुर पढ़ें:  क्या दलित इंसान नहीं होते? ये ख़बर शर्म से आपका सिर झुका देगी

Loading...