भारत ने यूनाइटेड नेशन की सर्वोच्च मानवाधिकार इकाई संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) का चुनाव भारी बहुमत से जीत लिया है. बता दें कि भारत संयुक्त राष्ट्र की इस मानवाधिकार संस्था में तीन साल के लिए चुना गया.. जिसका कार्यकाल पहली जनवरी, 2019 से शुरू होगा.

दरअसल एशिया प्रशांत श्रेणी में भारत को सबसे ज्यादा 188 वोट मिले हैं. 193 सदस्यों की यूएन जनरल असेंबली ने नए सदस्यों के लिए चुनाव किया था.. गुप्त चुनाव के जरिए 18 नए सदस्य पूर्ण बहुमत से चुने गए हैं. किसी भी देश को यूएनएचआरसी यानि कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का सदस्य बनने के लिए न्यूनतम 97 वोट की जरूरत होती है.

जरुर पढ़ें:  आर्थिक तंगी से हाल-बेहाल पाकिस्तान सरकार के अजीबो-गरीब फैसले.. कारें और भैंसें बेच कर जुटाए जा रहे हैं धन

वहीं इस कैटिगरी में भारत के अलावा बहरीन, बांग्लादेश, फिजी और फिलिपींस भी चुनाव में अपना हाथ आजमा रहे थे.. लेकिन वोटिंग में इन पांच देशों में भारत को सबसे ज्यादा 188 वोट मिले.  बता दें कि जेनेवा में स्थित यूएनएचआरसी में इससे पहले भी 2011-2014 और 2014-2017 के लिए भारत चुना गया था. भारत का पिछला कार्यकाल 31 दिसंबर 2017 को पूरा हुआ था. लेकिन नियम के अनुसार लगातार दो कार्यकाल के बाद कोई भी देश तुरंत तीसरी बार चुनाव नहीं लड़ सकता है. इसलिए भारत 2017-2019 में इस चुनाव के लिए नामांकन न कर सका.

यूएन में भारत के राजदूत और स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने भारत की जीत के बाद ट्वीट किया, लिखा ‘एक अच्छे उद्देश्य के लिए वोटिंग और यूएन में हमारे सभी साथियों का समर्थन के लिए धन्यवाद. भारत ने मानवाधिकार परिषद की सीट सभी कैंडिडेट्स के बीच सबसे ज्यादा वोट हासिल करते हुए जीती है.’

Loading...