अयोध्या में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद को लेकर लगभग 25 साल से विवाद चलता हुआ आ रहा है. जब 6 दिसंबर 1992 की कहानी को कोई भी भूल से याद कर लेता है तो भगवान से एक ही दुआ मांगता है कि ऐसा दिन फिर कभी देखने को न मिले. 25 साल पुराने उस मंजर में न जाने कितने मांओं की ममता रूखी पड़ गई, और न जाने कितने सुहागिलों का सिंदूर फिका पड़ गया.

लेकिन इस आंदोलन ने बीजेपी के कई नेताओं को देश की राजनीति में एक पहचान भी दी, मगर जब बात आती है राम मंदिर के लिए सबसे बड़ी कुर्बानी देने वाले शख्स की तो बीजेपी पार्टी नेता कल्याण सिंह ने दी. और ये बीजेपी के इकलौते नेता थे, जिन्होंने 6 दिसंबर 1992 में अयोध्या में बाबरी विध्वंस के बाद अपनी सत्ता को बलि चढ़ा दिया था. राम मंदिर के लिए सत्ता ही नहीं गंवाई, बल्कि इस मामले में सजा पाने वाले वे एकमात्र शख्स हैं.

जरुर पढ़ें:  पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई लिए जासूसी करने वाला BSF जवान गिरफ्तार.

बता दें कि कल्याण सिंह का जन्म 5 जनवरी 1932 को उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में हुआ था. बीजेपी के कद्दावर नेताओं में शुमार होने वाले कल्याण सिंह मौजूदा समय में राजस्थान के राज्यपाल हैं. एक दौर में वे राम मंदिर आंदोलन के सबसे बड़े चेहरों में से एक थे. उनकी पहचान हिंदुत्ववादी और प्रखर वक्ता की थी.

30 अक्टूबर, 1990 को जब मुलायम सिंह यादव यूपी के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने कारसेवकों पर गोली चलवा दी थी. प्रशासन कारसेवकों के साथ सख्त रवैया अपना रहा था. ऐसे में बीजेपी ने उनका मुकाबला करने के लिए कल्याण सिंह को आगे किया. कल्याण सिंह बीजेपी में अटल बिहारी बाजपेयी के बाद दूसरे ऐसे नेता थे जिनके भाषणों को सुनने के लिए लोग बेताब रहते थे. कल्याण सिंह उग्र तेवर में बोलते थे, उनकी यही अदा लोगों को पसंद आती.

जरुर पढ़ें:  बीजेपी ने कि अपने चुनाव कार्यक्रम 'भारत के मन की बात, मोदी के साथ' कि औपचारीक शुरूआत

कल्याण सिंह ने एक साल में बीजेपी को उस मुकाम पर लाकर खड़ा कर दिया कि पार्टी ने 1991 में अपने दम पर यूपी में सरकार बना ली. कल्याण सिंह यूपी में बीजेपी के पहले मुख्यमंत्री बने. सीबीआई में दायर आरोप पत्र के मुताबिक मुख्यमंत्री बनने के ठीक बाद कल्याण सिंह ने अपने सहयोगियों के साथ अयोध्या का दौरा किया और राम मंदिर का निर्माण करने के लिए शपथ ली.

कल्याण सिंह सरकार के एक साल भी नहीं गुजरे थे कि 6 दिसंबर, 1992 को अयोध्या में कारसेवकों ने विवादित ढांचा गिरा दिया. जबकि उन्होंने सर्वोच्च न्यायालय में शपथ पत्र देकर कहा था कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में, वह मस्जिद को कोई नुकसान नहीं होने देंगे. इसके बावजूद 6 दिसंबर 1992 को वही प्रशासन जो मुलायम के दौर में कारसेवकों के साथ सख्ती बरता था, मूकदर्शक बन तमाशा देख रहा था.

Loading...