हम सभी कुलभूषण जाधव को अच्छी तरह जानते हैं, पाकिस्तान ने उन्हें जासूसी और आतंकवाद के आरोप में मौत की सजा सुनाई थी, जिसे भारत ने अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के सामने रखा था, उसके बाद जाधव की मौत की सजा पर पकिस्तान ने रोक लगा दी है|

Demo Pic

लेकिन जाधव को लेकर एक बहुत बड़ा खुलासा किया गया है, जिसमें बलूच के कार्यकर्ता मामा कदीर ने कहा है कि जाधव को पकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी एजेंसी आईएसआई ने ईरान से अगवा करवाया था। एक इंटरव्यू के दौरान कदीर ने यह दावा किया है कि जादाह्व को अगवा कराने के लिए आईएसआई ने करोड़ों रुपये दिए थे|

जरुर पढ़ें:  Google ने मनाया अपना 20वां जन्मदिन, जानिए कैसे हुई गूगल की शुरुआत

आपको बता दें कि कदीर को इस बात की जानकारी वॉइस फॉर मिसिंग बलूच्स नामक संगठन से मिली थी| कदीर इस संगठन के उपाध्यक्ष हैं| कदीर ने बताया कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के लिए काम करने वाले मुल्ला उमर बलूच ईरानी ने जाधव को ईरान के चाबहार से अगवा किया था|

कदीर ने बाते कि जब जाधव को अगवा करने के लिए आईएसआई ने मुल्ला उम्र को करोड़ों रुपये दिए थे, उस टाइम कदीर के संगठन संयोजक वहां मौजूद थे| मुल्ला उमर ईरानी को बलूचिस्तान में कुख्यात आईएसआई एजेंट के रूप में जाना जाता है, मुल्ला उमर का काम पाकिस्तान के खिलाफ आवाज उठाने वाले को अगवा करना है।

जरुर पढ़ें:  सरदार पटेल की वो अनसुनी कहानी, जो सचमुच उन्हें लौह पुरुष बनाती हैं
Mama Kadeer

कदीर की माने तो उसके अनुसार उसे यह भी पता है, कि कुलभूषण जाधव ईरान में एक व्यवसायी को काम करते थे। असल में जाधव कभी बलूचिस्तान आये ही नहीं थी।जाधव को ईरान से अगवा करके बलूचिस्तान सीमा स्थित शहर मशकेल ले जाया गया, जहां से उनको बलूचिस्तान की राजधानी क्वेटा लाया गया और वहां से इस्मालाबाद। इस सारी कार्यवाही को काफी सोच समझकर अंजाम दिया गया था।

Demo Pic

अब देखने वाली बात यह होगी कि क्या भारत सरकार जाधव के बारे में यह सच जानने के बाद कोई ऐसा रास्ता निकालेगी जिससे पाकिस्तान और आईएसआई को करारा जबाव दिया जा सके।

Loading...