‘मिसाइल मैन’ के नाम से दुनिया भर में पहचाने जाने वाले भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीएजे अब्दुल कलाम का आज 15 अक्टूबर को जन्म दिवस है और आज हम आपको अविवाहित कलाम साहिब के तीन बेटों के बारे में बताएंगे. हैरान मत होइएगा. विवाह नहीं हुआ फिर भी तीन बेटे. ये सच है और ये सच खुद डॉ. एपीएजे अब्दुल कलाम ने ही बताया था.

APJ Abdul Kalam
(फाइल फोटो)

कलाम साहिब का जीवन एक खुली किताब थी, कोई भी पढ़े, जितना जानना है उनसे जानें, वो कभी सच बताने से पीछे नहीं हटते थे. वे देश के राष्ट्रपति रहे, एक महान विचारक रहे, लेखक रहे और वैज्ञानिक भी रहे. खास ये था की जीवन को जमीन से आसमान तक वो अपने पुरुषार्थ के दम पर लेकर गए आज भी वो हजारों लोगों के जीवन में एक प्रेरणा श्रोत के रूप में काम करते हैं, सादगी भरा जीवन जीने वाले डॉ. एपीएजे अब्दुल कलाम बच्चों से बहुत प्यार करते थे. बच्चों के साथ खेलना उनके साथ सवाल जवाब करना, उन्हें जीवन में आगे बढ़ने के लिए मोटिवेट करना, ऐसे कई काम वो करते थे.

जरुर पढ़ें:  4 दिन तक अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में कुलभूषण जाधव मामले पर चली सुनवाई खत्म,जानिए सुनवाई के दौरान क्या हुआ

बच्चों से बेइन्नतिहा मुहब्बत करने वाले कलाम साहिब बच्चों के बीच जाने के बाद खुद बच्चे बन जाते थे. मजेदार बात तो ये है कि डॉ. कलाम ने शादी नहीं की थी लेकिन वो कहते थे कि मेरे तीन बच्चे हैं. दरअसल एक बार राष्ट्रपति भवन में कलाम साहब बच्चों के बीच में घिरे हुए थे. बच्चे राष्ट्रपति भवन में आए हुए थे और कलाम साहिब उनके बीच बैठे थे. उसी वक्त वहां उनका इंटरव्यू लेने आए एक विदेशी पत्रकार ने उनसे पूछा कि राष्ट्रपति जी आपकी कोई अपनी संतान नहीं है फिर भी आप बच्चों से इतना प्यार करते हैं?

जरुर पढ़ें:  राम मंदिर को लेकर सीएम योगी और सपा प्रमुख अखिलेश यादव आमने-सामने!

कलाम साहिब ने मुस्कराते हुए कहा कि मेरे तीन बेटे हैं. सब लोग हैरान हो गए कि कलाम साहब ये क्या बोल गए. उनकी तो शादी नही हुई. तीन बेटे कैसे. लेकिन जब विश्व के महान वैज्ञानिकों में से एक भारत के राष्ट्रपति डॉ. एपीएजे अब्दुल कलाम ने अपने तीनों बेटों का नाम बताया तो हर भारतीय का सीना चौड़ा हो गया. उन्होंने गर्व से कहा की मेरे तीन बेटे हैं, जिनके नाम हैं पृथ्वी, अग्नि और ब्रह्मोस. ये तीनों ही भारत की सबसे ताकतवर मिशाइलें हैं. जो डाक्टर डॉ. एपीएजे अब्दुल कलाम की देन हैं. उन्होंने ही इसरो को ताकतवर लाचिंग व्हीकल दिए जिसकी वजह से आज इसरो कभी चांद तो कभी मंगल पर जा रहा है. उन्होंने ही भारत को लम्बी दूरी तक मार करने वाली मिसाइलें दीं. उन्होंने ही वो तकनीक दी कि आज भारत हजारों किलोमीटर तक मार करने वाली मिसाइल बना रहा है और इसलिए डॉ. एपीएजे अब्दुल कलाम को मिसाइल मैन के नाम से दुनिया जानती है और इन तीन मिसाइलों को वे अपना बेटे मानते थे.

जरुर पढ़ें:  कुंभ 2019 में आए बाबा बन रहे आकर्षण का केंद्र

VK News

Loading...