कल पहले साही स्नान के साथ यूपी के प्रयागराज मे कुभ 2019 का आगाज हो गया . योगी सरकार ने प्रयागराज में चल रहे अर्द्ध कुंभ मेले के लिए 4236 करोड़ रुपये का आवंटन किया है. यह साल 2013 के महाकुंभ के बजट का तीन गुना है. यही नहीं आजादी के बाद आज तक किसी भी  कुंभ में  इतना बजट आवंटित नहीं हुआ है, चाहे वह अर्द्ध कुंभ हो या पूर्ण कुंभ.

गौरतलब है कि इस साल प्रयागराज में कुंभ का आयोजन हो रहा है, वह अर्द्ध कुंभ ही है जो हर छह साल पर होता है. महाकुंभ का आयोजन हर 12 साल में होता है. प्रदेश के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया, ‘यूपी सरकार ने कुंभ मेले के लिए 4,236 करोड़ रुपये का आवंटन किया है. पिछली सरकार ने महाकुंभ पर 1,300 करोड़ रुपए खर्च किए थे. हमने इस राशि से तीन गुने अधिक का आवंटन किया है.

जरुर पढ़ें:  भैया, EVM में तो सही में गड़बड़ी है, निर्दलीय का वोट BJP को जा रहा है

उन्होंने ये भि बताया कि कुछ अन्य विभागों ने अपनी ओर से धन का आवंटन किया है. अग्रवाल ने बताया कि इस बार कुंभ मेले का क्षेत्र भी दोगुना यानी 3200 हेक्टेअर किया गया है. उन्होंने बताया कि इस राशि में से प्रदेश सरकार करीब 2000 करोड़ और केंद्र सरकार करीब 2,200 करोड़ दिये है . इतना पैसा भारत में पहले किसी भी धार्मिक आयोजन में खर्च नहीं हुआ है.

सरकार ने ये भी बताया कुंभ के लिए प्रयागराज में 247 किमी. सड़कें, 5.63 लाख वाहनों के लिए पार्किंग सुविधा, 1,22,500 टॉयलेट और 58 पुलिस चौकियां बनाई हैं. मेले में 2,132 चिकित्सा कर्मियों और करीब 20,000 पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई है. इनके अलावा सुरक्षा के लिए बड़ी संख्या में होमगॉर्ड्स, पीएसी कंपनी और सीआरपीएफ के जवान तैनात किए गए हैं.

जरुर पढ़ें:  बीजेपी ने चुनाव आयोग को दिखाया ठेंगा! स्कूली बच्चों को उतारा में चुनावी आखाड़े में

कुंभ मेला को हिन्दू तीर्थयात्राओं में सबसे पावन माना जाता है. यह मेला गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती के संगम पर आयोजित होता है. ऐसी मान्यता है कि त्रिवेणी संगम के पवित्र जल में डुबकी लगाकर किसी व्यक्ति के सारे पाप धुल जाते हैं. यह मेला मकर संक्रांति (माघ मास का पहला दिन, जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है) से आरंभ होता है. कुंभ मेला के आरंभ के दिन से ही कई निश्चित तिथियों पर शाही स्नान का आयोजन किया जाता है, जिसे ‘राजयोगी स्नान’ के रूप में भी जाना जाता है. इसमें विभिन्न अखाड़ों के सदस्यों, संतों और उनके शिष्यों की आकर्षक शोभायात्राएं निकाली जाती हैं. शाही स्नान के बाद ही आम जनता को स्नान करने की इजाजत होती है.

जरुर पढ़ें:  एक कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की अचानक बिगड़ी तबीयत, मंच पर हुए बेहोश!

 

Loading...