नई दिल्ली। SBI ने कैश जमा करने के नियमों में बदलाव करते हुए बड़ा फेरबदल किया है। बैंक ने ऐसा अपने ग्राहकों के बैंक खातों को सुरक्षित रखने के लिए किया है। इसी को ध्यान में रखते हुए एसबीआई ने अपने ग्राहकों के लिए यह फैसला लिया है।

एसबीआई ने फैसला किया है कि सिर्फ बैंक अकाउंट होल्डर ही अपने खाते में पैसे जमा कर पाएंगे। नए नियम के मुताबिक अब ‘ए’ नाम का व्यक्ति ही अपने अकाउंट में रकम जमा कर पाएगा। यदि किसी ‘बी’ नाम के व्यक्ति को रकम जमा करनी है तो उसे ए से पहले इज़ाजत लेनी होगी।

जरुर पढ़ें:  सबरीमाला मंदिर के आज खुलेंगे कपाट, सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद, महिलाओं की एंट्री के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन

एसबीआई का नया नियम इतना सख्त है कि कोई पिता भी अपने बेटे के अकाउंट में पैसा जमा नहीं कर पाएगा।मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, एसबीआई से जब इस नियम के लाने के बारे में पूछा गया तो एसबीआई ने कहा कि नोटबंदी के दौरान बड़े पैमाने पर 1000 और 500 के नोट बैंकों में जमा करवाए गए थे।

जब ग्राहकों से इस बारे में पूछा गया तो ग्राहकों ने खाते में जमा रकम पर जवाबदेही लेने से इनकार कर दिया। बैंक ने इसी बात को ध्यान में रखते हुए ये नया नियम बनाया है। नोटबंदी के बाद आयकर विभाग ने देश के तमाम बैंकों को कहा था कि वह ऐसा नियम बनाए ताकि किसी ग्राहक के अकाउंट में कोई दूसरा शख्स रकम जमा न कर पाएं। ताकि कोई भी ग्राहक अपने खाते में हुए लेनदेन के लिए जवाबदेही और जिम्मेदारी ने बच न सके।

जरुर पढ़ें:  RBI के ये इशारे बता रहे हैं, बंद होने वाला है 2000 का नोट

हालांकि बैंक ने ऑनलाइन लेने-देन पर किसी भी तरह का कोई नियम नहीं लागू किया है। यह पहले की तरह ही हैं। वहीं ग्राहकों के लिए आपात स्थिति में बैंक ने अनूपति-पत्र लेने को कहा है। अकाउंट होल्डर के अनुमति-पत्र पर कोई भी व्यक्ति खाते में रकम जमा कर सकता है।

Loading...