जब भी हमारे घर कोई मेहमान आता है या हम कहीं मेहमान बनकर जाते है तो खूब खातिरदारी होती है। डेर सारे गिफ्ट मिलते है। हां, लेते समय थोड़ी आनाकानी जरूर करते है वो बस महज दिखावे के लिए। गिफ्ट से याद आया कि हमारे माननीय मोदी जी भी तो आए दिन किसी न किसी देश के मेहमान बन कर पहुंच जाते है। अब गिफ्ट भी मिलते हीं होंगे। लेकिन मोदी जी को मिलने वाले तोहफे आखिर जाते कहां है?

PM Modi with Russia’s president Vladimir Putin

विदेश मंत्रालय के तोषखाना विभाग के ब्योरे के अनुसार, जुलाई 2017 से जून 2018 के बीच प्रधानमंत्री मोदी ने 20 देशों की यात्राएं कीं। आकडें बताते हैं कि पिछले एक साल में अपनी विदेशी दौरे में 168 तोहफे मिले जिनकी कीमत 12.57 लाख रूपये है। इन महंगे तोहफो में फाउंटेन पेन, मो ब्लां की कलाई घड़ी, टी सेट, चीनी मिट्टी के बर्तन, मंदिर-मस्जिद की मूर्तियां, विष्णु लक्ष्मी, भगवान गणेश की मूर्ति, पेंटिंग, फोटोग्राफ, क्रिस्टल व चांदी के बाउल जैसे तमाम  शानदार तोहफे शामिल है। लेकिन ये तोहफे जाते कहां है?

जरुर पढ़ें:  कॉल गर्ल को पुलिस ने पकड़ा, उससे संबंध बनाए और फिर बन गए उसके दलाल
China gifted chinease translation of indian ancient text to PM Modi

दरअसल, विदेश में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले मंत्री हो या कोई भी सरकारी अधिकारी उन्हें मिलने वाले तोहफे अगर पांच हजार रुपए से ज्यादा कीमती हो, तो ये तोहफे सीधे मंत्रालय की ट्रेजरी में जमा हो जाते हैं और अगर कम कीमत होते हैं, तो तोहफा पाने वाला उसे खुद रख सकता है।

PM Modi was gifted a bicycle by Netherland’s PM Mark rutteअब तक मोदी को जितने तोहफे मिले उनमें से सबसे मंहगा तोहफा है रॉयल सेलेंगर लिमिटेड  का एडिशन चांदी की पट्टिका है ,जिसकी कीमत दो लाख पंद्रह हजार रूपये बताई गई है। यानी मोदी जी को सारो तोहफे सरकारी खजाने में ही जमा कराने होंगे।

Loading...