महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लग गया है। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की कैबिनेट की सिफारिश पर हस्ताक्षर कर दिया है। पंजाब के दौरे पर गए राष्ट्रपति जैसे ही दिल्ली लौटे उन्होंने गृह मंत्रालय द्वारा राष्ट्रपति शासन की भेजी गई सिफारिश पर अपनी मुहर लगा दी।

गौरतलब है कि 24 अक्टूबर को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव नतीजे आने के बाद महाराष्ट्र में सियासी दलों के बीच 18 दिनों तक चली कवायद का कोई फायदा नहीं निकला। आखिरकार राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू हो ही गया। इस बीच शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की जिसमें महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के फैसले को चुनौती दी है। शिवसेना ने अर्जी में कहा है कि बीजेपी को 72 घंटे और शिवसेना को 24 घंटे का समय दिया गया। शिवसेना का आरोप है कि सरकार बनाने की उनकी क्षमता को साबित करने के लिए पार्टी को पर्याप्त समय नहीं दिया गया। इस मामले की सुनवाई जस्टिस बोबडे की बेंच करेगी।

जरुर पढ़ें:  राफेल सौदे को लेकर राहुल गांधी ने पीएम को घेरा, मोदी पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप

दरअसल, महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने सबसे पहले बीजेपी को राज्य में सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया लेकिन वो असफल रही। इसके बाद राज्यपाल ने शिवसेना को 24 घंटे में बहुमत जुटाने को कहा लेकिन शिवसेना भी जादुई आंकड़ा जुगाड़ नहीं कर पाई। जब बारी आई एनसीपी की तो वो भी इस कोशिश में फेल रही। ऐसे हालात में राज्यपाल ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन की सिफारिश कर दी है और कैबिनेट ने उस पर मुहर लगा दी।

VK News

Loading...