विपक्ष का काम होता है कि वो देश की जनता के मुद्दों को लोकतंत्र के मंदिर में उठाए. वो सरकार के सकारात्क कार्यों का समर्थन करे और जो कानून या बिल जनता के हित में ना हो उसकी आलोचना करने का उसको पूरा अधिकार है. लेकिन इन दिनों विपक्ष देश के मुद्दों को छोड़कर अपने ही स्वार्थ के मुद्दों में उलझा हुआ है. और  झूठ फैलाने का एक बड़ा अड्डा भी बन गया है. जिसके जरिए वो सौहार्द बिगाड़ने का पूरा मौका तलाशा है. यहां तक कि वो ये सिद्ध करने की कोशिश करता है कि वर्तमान सरकार जो भी फैसला ले रही है वो एक दम गलत हैं. एक तरफ तो कांग्रेस गांधी परिवार की SPG  की सुरक्षा के लिए सदन में रोना रो रही है तो वहीं दूसरी तरफ महासचिव प्रियंका गांधी सोशल मीडिया पर झूठ फैलाकर योगी सरकार के खिलाफ लोगों को भड़काने की पूरी कोशिश कर रही हैं.

जरुर पढ़ें:  प्रियंका गांधी का सुरक्षा घेरा तोड़कर सिक्ख पहुंचा उनके नजदीक, फिर हुआ ये!

सबसे पहले आपको दिखाते हैं प्रियंका का वो हालिया झूठ. जिसको उन्होंने सोशल मीडिया पर पेश तो कर दिया लेकिन उसके बाद उनकी बड़ी किरकिरी हुई. दरअसल उत्तर प्रदेश के उन्नाव में जमीन के मुआवजे की मांग को लेकर प्रदर्शन कर रहे किसानों का प्रियंका गांधी ने अपने ट्वीटर हैंडल पर एक वीडियो पोस्ट किया था. वीडियो में आप देख सकते हैं कि एक शख्स जमीन पर पड़ा हुआ है और पीछे भारी संख्या में पुलिस दिखाई दे रही है. एक सिपाही जमीन पर पड़े उस शख्स को उठाने की कोशिश करता है. लेकिन वो शख्स नहीं उठता है.

इस वीडियों को प्रियंका ने अपने ट्वीटर हैंडल पर पोट करके लिखा था, कि ‘उप्र के मुख्यमंत्री अभी गोरखपुर में किसानों पर बड़ी-बड़ी बातें कर रहे हैं. उनकी पुलिस का हाल देखिए उन्नाव में किसान लाठियां खाकर अधमरा पड़ा है. उसको और मारा जा रहा है.. शर्म से आंखें झुक जानी चाहिए. जो आपके लिए अन्न उगाते हैं, उनके साथ ऐसी निर्दयता?’

जरुर पढ़ें:  उन्नाव दुष्कर्म केस में सीबीआई को मिला दो हफ्ते का और वक्त

हालाकिं जब इस वीडियो की असल सच्चाई सामने आई तो उन्होंने उस वीडियो डीलीट कर दिया. तो वहीं प्रियंका के ट्वीट के कुछ देर बाद ही उन्नाव पुलिस ने ट्वीटर हैंडल पर एक वीडियो  पोस्ट किया जिसमें दिख रहा है कि वो युवक पुलिस की लाठियों से बचने के लिए जमीन पर पड़ा हुआ और मौका मिलते ही उठकर दौड़ लगा देता है. इस वीडियो को लोग सोशल मीडिया पर पोस्ट करके प्रिंयका को जमकर गरिया रहे हैं.

तो वहीं उन्नाव के पुलिस अधीक्षक एमपी वर्मा ने बताया कि हमने जमीन पर गिरे हुए उस व्यक्ति का वीडियो पूरा वीडियो शेयर किया. पहले इसी वीडियो के एक अंश को बड़े पैमाने पर वायरल किया गया था जिसमें वो व्यक्ति अधमरा पड़ा दिखाई दे रहा था लेकिन सच्चाई ये थी कि वह अधमरे होने का नाटक कर रहा था.

आपको बता दें कि ये पहला मामला नहीं है जब प्रियंका का ये झूठ पकड़ा गया हो इससे पहले भी कई झूठ पकड़े जा चुके हैं.

Loading...