बहुजन समाज पार्टी के पूर्व विधायक विजय यादव ने मायावती पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाली बीजेपी विधायक साधना सिंह के सिर पर ईनाम रखा है. बीएसपी नेता विजय यादव ने एलान किया है कि साधना सिंह का सिर कलम करके लाने वाले को 50 लाख रुपए का ईनाम दिया जाएगा.

बसपा के पूर्व विधायक का कहना है, ”सपा और बसपा के गठबंधन से बीजेपी के नेता बौखला गए हैं और वह बसपा सुप्रीमो पर आपत्तिजनक टिप्णी कर रहे हैं. इसलिए अब हम से रहा नहीं जा रहा है. हम भी ऐलान कर रहे हैं कि जो आदमी साधना सिंह का सिर काटकर हमें लाकर देगा, हम उसे पचास लाख रूपये देंगे.” बता दें, पूर्व विधायक विजय यादव वहीं नेता हैं जो कुछ दिन पहले मंच से बीजेपी नेताओं को दौड़ा-दौड़ा कर मारने की बात कह चुके हैं. उनके इस बयान के बाद बीएसपी की काफी किरकरी हुई थी.

जरुर पढ़ें:  राम मंदिर को लेकर सीएम योगी और सपा प्रमुख अखिलेश यादव आमने-सामने!

बता दें, मायावती को किन्नर से बदतर बताने वाली बीजेपी विधायक साधना सिंह के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है. ये शिकायत बीएसपी नेता रामचंद्र गौतम ने चंदौली के एक थाने में दर्ज कराई है.

विधायक साधना सिंह ने मायावती पर अपने बयान के बाद खेद प्रकट किया है, लेकिन माफी नहीं मांगी है. साधना सिंह ने अपने बयान में कहा है, ”मेरी मंशा किसी को अपमानित करने की नहीं थी, बल्कि मेरी मंशा सिर्फ यही थी कि 2 जून 1995 में गेस्ट हाउस कांड में बीजेपी ने मायावती जी की मदद की थी, उसे सिर्फ याद दिलाना था न कि उनका अपमान करना था. अगर मेरे शब्द से किसी को कष्ट हुआ तो मैं खेद प्रकट करती हूं.”

जरुर पढ़ें:  मोदी लुक के पीछे ये कौन, जारी हुआ पोस्टर

साधना सिंह ने कहा था, “वह महिला नारी जाती पर कलंक हैं. जिस महिला की आबरू को बीजेपी के नेताओं ने लुटते-लुटते बचाया उसी ने सुख-सुविधा के लिए, अपने वर्चस्व को बचाने के लिए अपमान पी लिया. ऐसी महिला तो किन्नर से भी ज्यादा बदतर है. वह ना नर है, ना महिला है उसकी गिनती किस श्रेणी में करनी है.”

साधना सिंह चंदौली जिले की मुगलसराय सीट से विधायक हैं. वो साल 2017 में पहली बार विधायक बनी. 1993 जिले में जिला पंचायत सदस्य भी रह चुकी हैं. इसके साथ ही चंदौली जिले की महिला प्रकोष्ठ और व्यापार मंडल के अध्यक्ष का पद संभाल चुकी हैं. विवादों से उनका रिश्ता पुराना है.

Loading...