नई दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में स्वामी विवेकानंद की मूर्ति को खंडित कर दी गई। कैंपस में प्रदर्शन के बीच आरोपियों ने मूर्ति के आसपास आपत्तिजनक शब्द लिख दिए। बीजेपी को निशाना बनाते हुए प्रतिमा के पास फर्श पर ‘भगवा जलेगा’ और कुछ और आपत्तिजनक बातें लिख दी गईं।

हालांकि अभी इसकी जानकारी नहीं मिल सकी है कि ऐसा करने वाले कौन लोग हैं। प्रतिमा के क्षतिग्रस्त होने के बाद उसे कपड़े से ढक दिया गया है और मामले की जांच चल रही है।

वहीं एनएसयूआई अध्यक्ष सनी धीमान ने इस घटना पर निंदा वक्त करते कहा कि मुझे नहीं लगता है कि जेएनयू का कोई भी छात्र ऐसा कर सकता है। उन्होंने बताया कि मूर्ति को क्षतिग्रस्त नहीं किया गया बल्कि इस पर कुछ लिख दिया गया था। हालांकि अब हमने इसे साफ कर दिया है।

जरुर पढ़ें:  ...तो इसलिए दुनिया इंदिरा को पुकारती थी आयरन लेडी

वहीं एक यूजर ने सोशल मीडिया पर वीडियो शेयर करते हुए लिखा इसमें नया क्या है, स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा को जेएनयू में बर्खास्त कर दिया गया है तो, पिछली बार भी उन्होंने वीर सावरकर को अपमानित किया था। मोदी के विरोधी होने के उत्साह में इन गुंडों ने भारत विरोधी, हिंदू विरोधी और मानवता विरोधी हो गए हैं।

जेएनयू में फिलहाल बड़ी फीस के खिलाफ प्रदर्शन चल रहा है। छात्र विभिन्न चार्ज और नियमों में बदलाव के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। बता दें कि बुधवार शाम को फीस में वृद्धि आंशिक रूप से वापस ले ली गई और जेएनयू प्रशासन ने कहा कि छात्रावास नियमावली से ड्रेस कोड और आने-जाने के समय से जुड़े उपबंध भी हटा दिए गए हैं। बावजूद इसके छात्र प्रदर्शन कर रहे हैं।

जरुर पढ़ें:  कुत्ते का साथ घूम रही JNU की जर्मन छात्रा के सामने एक शख्स ने की गंदी बात

जेएनयू के कुलपति एम जगदीश कुमार से छात्रावास फीस वृद्धि को लेकर बुधवार को उनसे बातचीत के लिए पहुंचे विद्यार्थियों ने विश्वविद्यालय के प्रशासनिक ब्लॉक में उनके खिलाफ दीवारों पर जगह-जगह नारे लिख दिए।

VK News

Loading...