यूपी के बाद अब रातों रात पश्चिम बंगाल के इस जगह का नाम बदल गया.

पिछले कुछ दिनों से उत्तर प्रदेश में कई स्थलों के नाम बदलने की कवायद तेजी से चल रही.. योगी सरकार ने सबसे पहले मुगलसराय रेलवे स्टेशन का नाम पं दीन दयाल उपाध्याय कर दिया. फिर इलाहबाद का नाम बदलकर प्रयागराज और अब फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया है. लेकिन नाम बदलने की ये कवायद वाली राजनीति अब उत्तर प्रदेश से होते हुए पश्चिम बंगाल तक पहुंच चुकी है.

जी हां सरकारी कागजों में दर्ज पश्चिम बंगाल के दिनाजपुर जिले के इस्लामपुर को अज्ञात लोगों ने रातों रात ईश्वरपुर बना दिया.. जैसे ही लोगों ने सुबह उठकर देखा तो आरएसएस और वीएचपी के स्कूल, दफ्तरों और गाड़ियों समेत कई जगहों पर इस्लामपुर नाम की जगह ईश्वरपुर लिखा मिला. इस नज़ारे को जिसने भी देखा वो हैरान रह गया.

जरुर पढ़ें:  अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम से थर-थर कांपता था बॉलीवुड, कईयों को उतारा था मौत के घाट

दरअसल आरएसएस की ओर से चलने वाले सरस्वती शिशु मंदिर स्कूल और सरस्वती विद्या मंदिर के बोर्ड पर इस्लामपुर की जगह ईश्वरपुर लिखा मिला. हैरानी बात है कि स्कूल के प्रिंसिपल को भी इस बात की जानकारी नहीं है कि बोर्ड पर इस्लामपुर की जगह ईश्वरपुर किसने लिखा है.

इतना ही नहीं स्कूल में बच्चों को लाने ले जाने वाली कैब पर भी नाम बदल दिया गया है. स्कूल के सरकारी दस्तावेजों में नाम अभी भी इस्लानपुर ही है. इसके साथ ही वीएचपी दफ्तर के बोर्ड पर भी इस्लामपुर की जगह ईश्वरपुर लिख दिया गया. इस बारे में वीएचपी के प्रवक्ता ने बताया कि जगह का नाम ईश्वरपुर ही है.

जरुर पढ़ें:  दुनिया की तीसरे सबसे भरोसेमंद सरकार हैं मोदी सरकार, वर्ल्ड इकोनोमिक फोरम की रिपोर्ट

आपको बता दें कि यूपी में शहरों के नाम बदलने को लेकर एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने एक जनसभा के दौरान कहा, ‘यूपी में शहरों के नाम बदले जा रहे हैं. इलाहाबाद का नाम बदल दिया, फैजाबाद का नाम बदल दिया गया. आगरा का नाम बदला जा रहा है, ‘लेकिन अमित शाह अपना नाम कब बदल रहे हैं. शाह तो फारसी शब्द है.

दरअसल योगी सरकार फैजाबाद का नाम अयोध्या करने के बाद अब अयोध्या में मांस और मदिरा पर बैन लगाने की तैयारी कर रही है.

Loading...