जैसे-जैसे लोकसभा चुनाव करीब आते जा रहे है राजनीतिक पार्टिया अपने प्रचार के नए-नए तरीके अपना रही है.पहले एशिया के सबसे बड़े कपड़ा बाजार सूरत में सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीरें साड़ियों पर छपती थीं लेकिन अब सूरत में बनी साड़ियों पर दो नए नेताओं के चेहरे देखने के लिए मिल रहे है. लोकसभा चुनाव की तारीख़ें जैसे-जैसे नज़दीक आ रही है वैसे-वैसे कांग्रेस समर्थक कपड़ा कारोबारियों ने पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी की तस्वीर वाली साड़ियां बनानी भी शुरू कर दी हैं.

सूरत में बनने वाली साड़ियां देश भर के तमाम राज्यों के साथ हि विदेश में भेजी जाती हैं. यही वजह है कि राजनीतिक दल साड़ियों के ज़रिए अपना-अपना चुनाव प्रचार करने में जुट गए हैं. सूरत में कपड़ा का कारोबार करने वाले गौरव श्रीमाली ख़ुद को कांग्रेस पार्टी का समर्थक बताते हैं. गौरव ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की तस्वीर वाली डिजिटल प्रिंट साड़ियां कपड़ा बाजार से छपवाई हैं.

जरुर पढ़ें:  मायावती के बाद अब अखिलेश यादव की कांग्रेस को लताड़, कहा-कन्फ्यूजन न पैदा करें..

साल 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले सूरत के इस कपड़ा बाजार में आम तौर पर बीजेपी के समर्थन नरेंद्र मोदी के फोटो प्रिंट वाली साड़ियां छपवाते थे, जिन्हें मांग के मुताबिक देश के विभिन्न राज्यों में सप्लाई किया जाता था. लेकिन जब से नरेंद्र मोदी की तस्वीर वाली साड़ियां चर्चा में आई हैं कांग्रेस भी इस रेस में पीछे नहीं रहना चाहती. यही वजह है कि कांग्रेस समर्थक गौरव जैसे कारोबारी राहुल गांधी के फोटो प्रिंट वाली साड़ियां यहां बनवा रहे हैं.

कपड़ा कारोबारी गौरव श्रीमाली ने बताया कि उन्होंने फिलहाल 120 साड़ी ही प्रिंट करवाई हैं जिन्हें वो मुंबई की कांग्रेस विधायकों को भेजेंगे. इसके बाद इन साड़ियों की जैसी मांग आएगी उसी के मुताबिक ऑर्डर पर साड़ियां तैयार की जाएंगी. लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस भी अब इन साड़ियों के जरिए पार्टी का प्रचार करना चाहती है.

जरुर पढ़ें:  क्या सुल्तानपुर का नाम बदलकर होगा कुशभवनपुर? रामनाईक ने योगी को चिट्ठी भेजकर की मांग..

गौरव श्रीमाली ने बताया कि उन्होंने नरेंद्र मोदी के फोटो प्रिंट वाली साड़ियों के जवाब में राहुल गांधी के प्रिंट वाली साड़ियों को तैयार किया है. सूरत के कपड़ा कारोबारियों ने जीएसटी का बड़े पैमाने पर विरोध किया था लेकिन अब धीरे-धीरे यहां के कपड़ा कारोबारी जीएसटी सिस्टम में शामिल हो चुके हैं.

Loading...