नई दिल्ली। करवा चौथ सभी सुहागिन औरतों के लिए सुहाग का पर्व होता है। इस मौके पर सुहागिन स्त्रियां बड़ी श्रद्धा और आस्था के साथ व्रत रखती हैं। महिलाएं इस दिन दिनभर निर्जल व्रत रखकर पति की लंबी उम्र की दुआ मांगती हैं। लेकिन यह व्रत उन्हीं लोगों का सफल होता है जो व्रत से जुड़ी इन खास बातों का ध्यान रखकर अपना व्रत पूरा करती हैं।

करवाचौथ व्रत रखने से पहले आपको इन सात बातों का भी ध्यान अवश्य ही रखना चाहिए, ताकि आपका व्रत निर्विध्न पूरा हो।

  • करवाचौथ का व्रत रखने वाली स्त्रियों को सबसे पहले सूर्योदय से पहले उठकर भगवान शिव और माता पार्वती से प्रार्थना करनी चाहिए। उसके बाद घर के बड़े सदस्यों को प्रणाम करने के बाद सरगी खाकर व्रत का आरंभ करना चाहिए।
  • व्रत के दिन पति और पत्नी दोनों को ही संयम का परिचय देना चाहिए और जीवनसाथी की लंबी उम्र की कामना करते हुए देवी करवा के सतीत्व का ध्यान करना चाहिए।
जरुर पढ़ें:  शुद्ध शाकाहारी पीएम मोदी के लंच मेनू में होगी मछली से बनी डिश !

  • व्रत के दिन पति के प्रति मन में बुरे विचार नहीं रखने चाहिए। कहते हैं कि जो महिला अपने पति के लिए व्रत के दिन बुरा सोचती है, उनकी सुहाग की हानि होती है।
  • व्रत के दिन केवल लाल या पीला रंग के कपड़े ही पहने और इन्हीं रंगों का दान भी करें। इस दिन कभी भी उजला या काला कपड़ा नहीं पहनना चाहिए।

  • इस व्रत में सोलह श्रृंगार का बड़ा महत्व है। आज पूर्ण श्रृंगार करके शिव पार्वती सहित भगवान गणेश और करवा माता की पूजा करें और प्रार्थना करें कि उनका सुहाग और श्रृंगार यूं ही हमेशा बना रहे।
  • यह व्रत निर्जला होता है। इसलिए अन्न, जल का त्याग कर पति का ध्यान करना चाहिए। चंद्रमा के दर्शन के बाद ही पति के हाथों से जल ग्रहण का व्रत खोलें।
  • चंद्र दर्शन के बाद पति के हाथों से मांग भरवाने के बाद यह व्रत पूर्णतः सफल होता है। इसलिए पति और पत्नी दोनों को मिलकर इस व्रत को सफल बनाने में सहयोग करना चाहिए।
जरुर पढ़ें:  ये जेपीसी क्या है? राफेल जांच के लिए जिसकी मांग राहुल गांधी कर रहे हैं

Loading...