भारतीय बैंकों का पैसा लेकर विदेश भागे शराब कारोबारी विजय माल्या के केस में केन्द्र सरकार एक बड़ी कामयाबी मिली है. दरअसल लंदन की कोर्ट ने माल्या को वापस भारत भेजने की मंजूरी दे दी है. 

आपको बता दें कि लंदन में कोर्ट की सुनवाई से पहले मीडिया से बातचीत करते हुए माल्या ने कहा, कि ‘मैंने किसी का पैसा नहीं चुराया. मैंने बैंकों का पूरा पैसा चुकाने की बात की थी. बकाया चुकाने का प्रत्यर्पण से कोई लेना-देना नहीं है.’ माल्या ने पुरानी बातों को दोहराते हुए कहा कि उसने कर्नाटक हाईकोर्ट में सेटलमेंट की पेशकश की थी.

तो वहीं, केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली और बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने विजय माल्या के प्रत्यर्पण की मंजूरी मिलने पर खुशी जाहिर की है. जेटली ने ट्वीट किया, ‘आज भारत के लिए बड़ा दिन है. भारत से धोखाधड़ी करने वाला कोई भी सजा से नहीं बचेगा. एक अपराधी को यूपीए सरकार के दौरान फायदा पहुंचाया गया था. हालांकि एनडीए सरकार उसको वापस ला रही है.’

जरुर पढ़ें:  जामा मस्जिद के अंदर डांस का वीडियो हुआ वायरल, प्रशासन ने लगाई टूरिस्टों पर पांबदी

इसके अलावा सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि विजय माल्या के प्रत्यर्पण को लंदन कोर्ट की मंजूरी मिलना भारत सरकार की बड़ी जीत है. जनवरी के आखिरी तक विजय माल्या को भारत वापस लाया जा सकता है.

कोर्ट ने माल्या को ऊपरी अदालत में अपील करने के लिए 15 दिन का समय दिया है. इससे सीबीआई का मनोबल भी बढ़ेगा. इससे जांच एजेंसियां अपने काम को लेकर फ्री महसूस करती हैं. पहले की तरह जांच एजेंसियों के क्रियाकलापों में कोई रोड़ा नहीं है. 

जरुर पढ़ें:  राफेल सौदे को लेकर राहुल गांधी ने पीएम को घेरा, मोदी पर लगाए भ्रष्टाचार के आरोप


आपको बता दें कि अभी भी माल्या के पास इस फैसले के खिलाफ 14 दिन के अंदर ऊपरी अदालत में अपील करने का विकल्प है.

Loading...