लोकसभा चुनाव 2019 नजदीक हैं. और ऐसे में सभी पार्टियां अपनी अपनी तैयारियों में जुट चुकि हैं. और नए नए पैतरें आजमा कर अपना अपना सिक्का आजमाने में लगी हुई हैं. वही इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश में भी चुनावी माहौल हर दिन दिलचस्प मोड़ ले रहा है.

महागठबंधन से आउट कांग्रेस की दरियादिली भी बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती को रास नहीं आ रही है. उन्होंने साफ कह दिया है कि भारतीय जनता पार्टी को परास्त करने के लिए सपा-बसपा का गठबंधन काफी है, ऐसे में कांग्रेस जबरदस्ती सीट छोड़ने का भ्रम न फैलाए. मायावती के इस रुख का सपा ने भी समर्थन किया है,  लेकिन अब इसपर कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने अपना रुख साफ करते हुए दो टूक अंदाज में जवाब दिया है.

जरुर पढ़ें:  अगर अच्छी नौकरी पानी है तो, इन टिप्स को ज़रुर अपनाएं

प्रयागराज से वाराणसी तक बोट यात्रा कर रहीं प्रियंका गांधी ने कहा है कि हमारे अंदर किसी प्रकार का कोई कन्फ्यूजन नहीं है, हम भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ लड़ रहे हैं. दरअसल, मायावती ने कहा है कि यूपी में सपा-बसपा और आरएलडी का गठबंधन है, ऐसे में कांग्रेस कोई भ्रम पैदा न करे. मायावती के इस बयान का समर्थन करते हुए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी कांग्रेस को नसीहत दी है.

कांग्रेस ने किया था 7 सीटों पर न लड़ने का ऐलान

बसपा सुप्रीमो का यह बयान कांग्रेस के उस ऐलान के बाद सामने आया था, जिसमें रविवार को कांग्रेस ने समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और राष्ट्रीय लोकदल के लिए सात सीटें छोड़ने का ऐलान किया था. यानी कांग्रेस इन सात सीटों पर अपने उम्मीदवार नहीं उतारेगी. ये वोट सीटे होंगी, जहां से अखिलेश यादव, मायावती, मुलायम सिंह यादव, डिंपल यादव, चौधरी अजित सिंह व जयंत चौधरी चुनाव लड़ेंगे.

जरुर पढ़ें:  बालकोट एयरस्ट्राइक- पाकिस्तान ने मदरसे तक मीडिया के जाने पर लगाया बैन

कांग्रेस के इस ऑफर पर ही मायावती ने सख्त रुख अपनाया है. उन्होंने तस्वीर बिल्कुल साफ करते हुए कह दिया कि कांग्रेस से किसी भी प्रकार का गठबंधन व तालमेल नहीं है. मायावती को समर्थन करते हुए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी कांग्रेस को नसीहत दे डाली. अखिलेश ने ट्वीट किया, ‘यूपी में एसपी, बीएसपी और आरएलडी का गठबंधन भाजपा को हराने में सक्षम है. कांग्रेस पार्टी किसी तरह का कन्फ्यूजन ना पैदा करे.

इससे पहले मायावती ने ट्वीट कर लिखा था कि, ‘बीएसपी एक बार फिर साफ तौर पर स्पष्ट कर देना चाहती है कि उत्तर प्रदेश सहित पूरे देश में कांग्रेस पार्टी से हमारा कोई भी किसी भी प्रकार का तालमेल व गठबंधन आदि बिल्कुल भी नहीं है. हमारे लोग कांग्रेस पार्टी द्वारा आये दिन फैलाये जा रहे किस्म-किस्म के भ्रम में कतई ना आयें.’

जरुर पढ़ें:  तेलंगाना चुनाव परिणाम-2018 में रुझानों ने दिलाई TRS को बहुमत

 

Loading...