इस जगह के लोग सैनिटरी पैड से करते हैं नशा!

नशा एक ऐसी चीज़ है जिसकी लत आखिर तक पीछा नहीं छोड़ती और नशे की लत लग जाने पर लोगों को सही और गलत में अंतर समझ नहीं आता. अमीरज़ादे इस नशे लिए लाखों रुपए खर्च करते हैं. तो वहीं पैसा न होने की वजह से गरीब लोग इस नशे को करने के लिए ऐसे तरीके हैं. जिसे जानकर  आप दंग  रह जाएंगे. जी हाँ ये लोग कभी व्हाइटनर से नशा करते कभी पेट्रोल सूंघकर तो कभी ग्लू सूंघकर लेकिन एक तरह का नशा जो ये लोग करते हैं वो सुनकर आप कहेगें ओह माय गॉड!

दरअसल नशे के ये भूखे लोग सेनेटरी नैपकिन को भी छोड़ते। जी हाँ ये लोग सैनेटरी पैड्स और टैम्पून्स उबालकर नशा करते हैं. जी आपने सही सुना जो महिलाएं मासिक धर्म यानी अपने पीरियड्स दौरान इस्तेमाल करती हैं उस सैनेटरी पैड्स को उबालकर ये लोग नशा करते हैं. कई रिपोर्टस में दावा किया गया है कि इंडोनेशिया में युवा टैम्पून्स और पैड्स से नशा कर रहे हैं. यहाँ के टीनेजर्स सैनेटरी पैड्स और टैम्पून्स उबालकर नशा कर रहे हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि ये लोग इस्तेमाल हो चुके सैनिचरी पैड से भी नशा करते हैं. ये लोग ये नशा इसलिए हैं क्योकि सैनिटरी पैड से नशा कानूनी भी है और सस्ता भी.

जरुर पढ़ें:  ओह! तो यहां से आई थी, आपके फोन वाली ये 'स्माइली' इमोजी


इंडोनेशिया नेशनल ड्रग एजेंसी (BNN) के मुताबिक, सैनिटरी पैड फॉर्मूला को पीने से लोगों को नशे और बेसुध होने का एहसास होता है. इसके लिए प्रोडक्ट में मौजूद क्लोरीन जिम्मेदार है. बीएनएन के अध्यक्ष सीनियर कमांडर सुप्रिनार्टो ने बताया कि लोग ‘ जिस प्रोडक्ट का इस्तेमाल कर रहे हैं, वो लीगल है लेकिन इसे जिस चीज़ के लिए बनाया गया है, उसके लिए इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है जो सही नहीं है. इसे ड्रगस की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है.’बता दें कार्ता की राजधानी जावा से कई लोगों को सैनिटरी पैड्स से नशा करते पाए जाने पर गिरफ्तार किया गया है.

जरुर पढ़ें:  Wow आ गई बलात्कारियों को फंसाने वाली ‘मशीन’

नशा करने वाले एक 14 साल के लड़के ने बताया कि ‘पैड का रैपर हटाकर इसे एक घंटे तक उबाला जाता है और उसके बाद इसे निचोड़कर लिक्विड एक कंटेनर में रख लिया जाता है.’इसका स्वाद कड़वा होता है लेकिन यहां दिन भर बच्चे और युवा इस लिक्विड को पीते रहते हैं.

फिलहाल इसके खिलाफ कोई कानून नहीं है. कुछ बच्चे मच्छरों से बचने के लिए बनाए गए पेस्ट और कोल्ड सीरप का भी नशे की तरह इस्तेमाल करते हैं, इन्हें रोकने के लिए भी कोई कानून नहीं है. बता दें इंडोनेशिया के स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि वो इस बात की जांच करेंगे कि टैम्पून्स और पैड्स में कौन से कैमिकल्स हैं जिससे इतना नशा होता है.

Loading...