भूलकर कभी भी न चलाएं गाड़ी में हीटर, नहीं तो हो सकती है मौत.

सर्दी का मौसम आ गया है और सभी ने अपने सर्दी के कपडे निकल लिए हैं और साथ ही लोग अब हीटर का भी इस्तेमाल कर रहे हैं. लेकिन क्या आपको पता है कि हीटर चलाने से जल्द ही आपकी जेब खाली हो सकती है. जी हाँ यही नहीं इसके साथ ही आपकी सेहत पर भी असर पड़ता है.

पिछले दिनों हुई बारिश के बाद टेम्परेचर में तेजी से गिरावट होने की संभावना जताई जा रही है. इस वजह से लोग गीज़र से पानी गरम करके नहा रहे हैं साथ ही लोगों के घर में हीटर भी शुरू हो गया है. घर में ही नहीं लोग जब कार में सफर करते हैं तब भी हीटर का इस्तेमाल करते हैं.

दरअसल, सर्दियों के दिनों में लोग अक्सर कार को स्टार्ट करते ही हीटर भी चालू कर देते हैं, जबकि ऐसा नहीं करना चाहिए. क्योकि कार बंद होने की वजह से उसका इंजन ठंडा हो जाता है. वहीं जब कार को स्टार्ट होने के बाद इंजन गर्म होने में कुछ समय लगता है.

जरुर पढ़ें:  ये पढ़ने के बाद आपका ये भ्रम टूट जाएगा, कि औरतें कमज़ोर होती हैं

लेकिन इंजन चालू होने के साथ ही अगर हीटर भी चालू किया जाए तो इससे ईंधन की ज्यादा खपत होती है. जिसके चलते आपकी कार का फ्यूल टैंक जल्दी खाली हो जाएगा. इसलिए आगे से ये ध्यान रखें कि कार चालू करने के कुछ समय बाद ही हीटर चलाएं. ताकि इंजन को गर्म होने का समय मिल सके.

अब बताते हैं हीटर आपकी सेहत को कैसे नुक्सान पहुंचा सकता है. कार में इंजन के कारण कार्बन-मोनोऑक्साइड गैस इकठ्ठी हो जाती है, जिसके कारण सांस लेने में परेशानी हो जाती है. कई बार दम घुटने से व्यक्ति की मौत हो सकती है. असल में एयर कंडीशन या हीटर चलाने के दौरान लोग कार के शीशे पूरी तरह बंद कर लेते है.

जरुर पढ़ें:  पश्चिम बंगाल में अंतिम दिन मेैदान में उतरे बीजेपी के फायर ब्रिगेंड नेता 'गिरिराज सिंह'

ऐसे में सांस के से छोड़ी कार्बन-डाईऑक्साइड गैस व इंजन से निकली कार्बन-मोनोऑक्साइड गैस की मात्र कार में बढ़ने लगती है. कार में सोए हुए व्यक्ति को इस बात का बिल्कुल भान नहीं रहता कि उसके शरीर में ऑक्सीजन की कमी हो रही है. जिसके कारण दम घुटने से कई लोगों की मौते भी हो चुकी हैं.

बता दें कि अक्टूबर 2017 को रणहौला इलाके में भी एक शख्स शाम को अपनी कार को बिना लॉक किए घर चला गया. वहां दो बच्चे आए और कार के अंदर बैठकर दरवाजा बंद कर लिया. करीब छह घंटे बाद लोग उन्हें ढूंढते हुए कार के पास पहुंचे. लेकिन तब तक दोनों बच्चों की मौत हो चुकी थी.

कुछ ऐसा ही मामला पिछले वर्ष 27 नवंबर को हुआ था. जब दिल्ली कैंट में कैटरिंग का काम करने वाले छह कर्मचारी ठंड से बचने को कैंटर में तंदूर रख दरवाजा अंदर से बंदकर सो गये. कार्बन-मोनोऑक्साइड गैस के कारण सभी की दम घुटने से मौत हो गई.

जरुर पढ़ें:  Video- गुस्से में चिमटा निगल गया सांप, कमजोर दिल वाले ना देखें

अब बतातें हैं आप अपनी सेहत का बचाव कैसे कर सकते हैं कार में एयर कंडीशन या हीटर चलाकर सोने से पहले थोड़ा सा शीशा खोल लें, ताकि साफ हवा कार के प्रवेश करती रहे. कोशिश करें कि कार के अंदर न सोएं, यदि आप सो रहे है तो हीटर के आसपास एक बर्तन में पानी भरकर रख दें.

ताकि भाप के साथ वो पानी कार में नमी को बरकरार रखे. यूं तो सर्दियों में ज्यादातर लोग क्रीम का इस्तेमाल करते ही हैं लेकिन कार में यदि आप हीटर चलाते हैं तो क्रिम को शरीर पर जरूर लगाए.

Loading...