दीवाली आ रही है. अगर आप कर्मचारी हैं, तो आपको भी इंतजार होगा बोनस का और उस तोहफे का, जो साल में एक बार कंपनी आपको देती है. एक महीने पहले ही ऑफिस में इस बात की चर्चा शुरू हो जाती है कि इस बार क्या मिलने वाला है. साथ ही साथ उस कंपनी का भी लोगों को इंतजार रहता है. जो अपने कर्मचारियों पर खासी मेहरबान रहती है.

जी हां बात गुजरात के उस दिलदार हीरा कारोबारी की हो रही है, जो अपने कर्मचारियों को दीवाली में मालामाल कर देता है. आप भी इंतजार में होंगे की हरि कृष्णा एक्सपोर्ट्स के चेयरमैन सावजी ढोलकिया इस बार अपने कर्मचारियों को क्या देने वाले हैं? तो आपको बता दें, कि इस बार भी ढोलकिया जी अपने कर्मचारियों की दीवाली बंपर करने की तैयारी में हैं.

इस दिवाली पर ग्रुप की ओर से बोनस में 600 कर्मचारियों को कार और 900 कर्मचारियों को एफडी यानी कि फिक्स डिप़जिट दिया जाएगा. गुरुवार को डायमंड किंग सावजी ढोलकिया अपने कर्मचारियों को इन तोहफों के साथ सम्मानित करेंगे. नया इसमें ये है, कि पहली बार ग्रुप के चार कर्मचारियों को ये तोहफा खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने हाथों से गुरुवार को दिल्ली में देंगे.

जरुर पढ़ें:  दुनिया की सबसे महंगी साइकिल, फिचर और कीमत जानकर दिमाग घूम जाएगा

दरअसल हर साल लॉयल्टी प्रोग्राम के कपंनी कुछ चुनिंदा कर्मचारियों को चुनती है, जिन्हें ये महंगे तोहफे दिए जाते हैं. इस प्रोग्राम की शुरूआत 2011 में कंपनी की ओर से की गई थी. तभी से हर साल ये तोहफे दिए जा रहे हैं. इस साल पूरे 1500 कर्मचारी चुने गए हैं. जिनमें से 600 ने तोहफे में कार और 900 ने बैंक में एफडी की मांग की थी. कमाल की बात ये, है कि तोहफे पाने वाले कर्मचारियों में से एक दिव्यांग बेटी भी हैं. पीएम मोदी ग्रुप के चार कर्मचारियों को तोहफा देने के बाद  वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बाकी कर्मचारियों को संबोधित भी करेंगे। इस साल ये कंपनी दिवाली बोनस के बतौर कुल 50 करोड़ रुपये कर्मचारियों पर खर्च कर रही है।

जरुर पढ़ें:  377 खत्म होने के बाद पहली गे शादी, कौन हैं ये शख्स?

ऐसा नहीं है, कि ढोलकिया जी सिर्फ दिवाली पर ही अपने कर्मचारियों पर मेहरबान होते हैं. पिछले महीने ही वे अपने तीन कर्मचारियों को मर्सेडीज बेंज कार गिफ्ट कर चुके हैं. 1 करोड़ रुपये की कीमत वाली जीएल फॉर्मेटिक मॉडल वाली ये कारें इन कर्मचारियों को बतौर सरप्राइज गिफ्ट दी गई थीं. 

दरअसल इन कर्मचारियों ने कंपनी में 25 साल पूरे किए थे. इन कारों की चाबियां गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री और मध्य प्रदेश की मौजूदा राज्यपाल आनंदीबेन पटेल के हाथों दी गई थी.

सावजी ढोलकिया अमरेली जिले के दुधाला गांव के रहने वाले हैं. जिन्होंने अपने चाचा से कर्ज लेकर हीरे का कारोबार शुरू किया था. अपनी मेहनत और लगन से उन्होंने इस कारोबार को इस मुकाम पर पहुंचाया. ढोलकिया हाल ही में तब भी सुर्खियों में आए थे, जब उन्होंने अरबपति होने के बावजूद अपने बेटे द्रव्य को पैसे की अहमियत समझाने के लिए सिर्फ 7 हजार रुपये के साथ कोची शहर में खुद के दम पर रोजी-रोटी कमाने भेजा था.

जरुर पढ़ें:  एक दिन में डेढ़ करोड़ रुपए खर्च करने वाली महिला, महंगी शराब से नहाती हैं ये

MBA कर चुके बेटे को अपने पैरों पर खड़े होने की कला सीखने के लिए उन्होंने ऐसा किया था. ढोलकिया की कंपनी 2015 में अपने कर्मचारियों को दिवाली बोनस के तौर पर 491 कार और 200 फ्लैट दे चुकी है. 2014 में भी कंपनी ने कर्मचारियों के बीच इन्सेंटिव के तौर पर 50 करोड़ रुपये बांटे थे.

Loading...