सरदार पटेल की मूर्ति स्टैच्यू ऑफ यूनिटी इन दिनों देश-विदेश में काफी सूर्खियां बटोर रही है. क्यों कि 3000 हजार करोड़ की लागात से बनी ये मूर्ति विश्व की सबसे उंची मूर्ति बन गई है. लेकिन इन दिनों सोशल मीडिया पर इस मूर्ति को लेकर कुछ तस्वीरें जमकर वायरल हो रही हैं. जो मूर्ति के बनाने वालों से लेकर सरकार पर भी सवाल खड़े कर रही हैं.

दरअसल तस्वीरों को पोस्ट करते समय दावा किया जा रहा है. सरदार पटेल की 182 मीटर ऊंची ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ टूटने लगी है? तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि फोटो में सरदार पटेल के पैरों का हिस्सा दिख रहा है. जिसमें सफेद रंग की लकीरें भी दिखाई दे रही हैं. दावा किया जा रहा है कि ये जो सफेद लकीरें दिख रही हैं वो असल में दरारें हैं.

जरुर पढ़ें:  15 अगस्त को AC वाली बाइक तो नहीं आई, लेकिन इसकी सच्चाई तो जान लीजिए

राजीव जैंन नाम के एक शख्स ने इन तस्वीरों को अपने फेसबुक अकाउंट पर पोस्ट करते समय लिखा है कि दो हज़ार के नोटों को दो साल के भीतर डैमेज करने के बाद अब उद्घाटन के दो हफ़्ते के भीतर सरदार पटेल की मूर्ति में भी दरार आ गई.

इसके अलावा कई लोग इन तस्वीरों को पोस्ट करके घोटाला करार दे रहे हैं.

मूर्ति में दरारें वाले दावों की सच्चाई जानने के लिए हमने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से जुड़ी वेबसाइट को देखा. तो हमें इससे जुड़ी कई तस्वीरें मिली. जो कि 31 अक्टूबर, 2018 हैं. यानि तब की है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मूर्ति का उद्घाटन किया था. लेकिन इन तस्वीरों में भी हमें मूर्ति पर सफेद लकीरें दिखीं. यानी कि ये भी साफ है कि सफेद रंग की ये लकीरें अभी की नहीं है बल्कि उद्घाटन के समय से ही हैं. लेकिन अब सवाल ये है कि ये लकीरें हैं क्या?

जरुर पढ़ें:  वायरल पड़ताल- क्या नेहरु ने बंद कराया था सुभाष चंद्र बोस की तस्वीर वाला नोट ?

तो आइए आपको बताते हैं. इन लकीरों के पीछे क्या है असली सच?

आपको बता दें स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को बनाने में खास तरह की वेल्डिंग का इस्तेमाल हुआ है. 182मीटर ऊंची प्रतिमा को एक पार्ट से तैयार करना संभव नहीं है. जिसके लिए प्रतिमा में 8 एमएम की कांसे की प्लेटों को विशेष प्रकार की वेल्डिंग से परस्पर जोड़कर जड़ी गईं हैं.

और प्लेटों को विशेष वेल्डिंग से जोड़ा गया है. इसलिए जहां ये जोड़ हैं, वहां वेल्डिंग है. जिसे देख कर स्वाभाविक रूप से दरार होने का आभास होता है. लेकिन ये दरार नहीं स्टैच्यू बनाने के लिए इस्तेमाल की गई वेल्डिंग का एक भाग ही है. यानि कि हमारी पड़ताल में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी में दरार बताने वाले दावे एकदम फर्जी साबित हुए.

जरुर पढ़ें:  अभिनंदन ने किया खुलासा, पाक में दी गई थी यातनाएं

Loading...