इन दिनों देश से धन लेकर भाग जाने वाले भगोड़ों की खूब चर्चा हो रही है. भगोड़ों की लिस्ट में सबसे ऊपर विजय माल्या का नाम चर्चित है. एक तरफ जहां विजय माल्या जो देश की बैंकों को करोड़ों रुपए का चूना लगाकर लंदन में मौज काट रहा है तो वहीं इस बात सियासत गरमा रही कि देश से भागने से पहले माल्या वित्त मंत्री जेटली से मिले थे. इस बात को लेकर विपक्ष देश के वित्त मंत्री पर तरह-तरह के सवाल खड़े कर रहा है.

विजय माल्या और अरुण जेटली

लेकिन इस सब के मद्देनजर सोशल मीडिया पर एक वायरल चेक बीजेपी की नीयत पर सवाल उठा रहा है. सोशल मीडिया पर वायरल होने वाले इस चेक में रकम पैतीस करोड़ रुपए भरी है और इसे माल्या ने बीजेपी को दिया है ऐसा दावा किया जा रहा है. चेक पर माल्या के साइन, 8 तारीख, महीना नवंबर और साल 2016 दिख रहा है. इस चेक की फोटो के साथ सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि देश से भागने से पहले विजय माल्या ने 35 करोड़ का चेक पार्टी फंड में दिया. साथ ही अपील भी की जा रही है कि देश बचाने के लिए इसे ज्यादा शेयर करें. यही नहीं बल्कि लोग इस चेक की फोटो को अलग अलग कैप्शन के साथ जमकर शेयर कर रहे हैं.

जरुर पढ़ें:  बीजेपी को झटका, पूर्व विधायक हुआ कांग्रेस में शामिल
वायरल सच : विजय माल्या ने बीजेपी को दिया 35 करोड़ का चेक

जब इस चेक की फोटो के पीछे के तथ्यों को खंगाला तो सवाल सबसे पहले बात माल्या के साइन की थी क्या वाकई माल्या चेक पर माल्या के साइन है. इसलिए सबसे पहले उनके साइन को गूगल पर सर्च किया तो इस चेक की हकीकत खुलकर सामने आ गई. जब पहले विजय माल्या के ऑफीशियल ट्विटर हैंडल को देखा तो उनके ट्विटर हैंडल पर एक एक लेटर मिला जिसमें नीचे उनके साइन भी थे जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे चेक साइन से बिलकुल भी मैच नहीं कर रहे. और चेक पर नवंबर दो हजार सोलह की तारीख है जबकि माल्या ने दो हजार सोलह के अप्रैल में ही देश छोड़ दिया था. ये कैसे संभव हो सकता है कि माल्या पोस्ट डेटेड चेक देकर देश छोड़कर जाएगा.

जरुर पढ़ें:  दुनिया की तीसरे सबसे भरोसेमंद सरकार हैं मोदी सरकार, वर्ल्ड इकोनोमिक फोरम की रिपोर्ट
विजय माल्या के लेटर पर साइन

पड़ताल में ये चेक फर्जी पाया गया है. बता दें इस तरह की फर्जी खबर फैलाने का यह पहला मामला नहीं है बल्कि इससेे पहले भी ऐसा ही सेम चेक आम आदमी पार्टी और कांग्रेस को जारी करने का मामला सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हुआ था. इन दोनों चेक के नंबर एक ही हैं और सिर्फ फर्क साइन का है. वीके न्यूज़ की मुहिम fight against fake news इस तरह की फर्जी खबरों का खुलासा करती है. यदि आपको इस तरह की कोई भी तस्वीर या पोस्ट मिलती है तो हमारे साथ शेयर करें.

आम आदमी पार्टी और कांग्रेस को दिया हुआ फेक चेक..

देखें वीडियो- 

Loading...