एशिया कप में बुधवार को भारत और पकिस्तान के बीच खेले जा रहे मैच के दौरान टीम इंडिया के ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या चोटिल हो गए। इससे पहले मंगलवार को पंड्या हॉन्ग कॉन्ग के खिलाफ खेले गए मैच में आराम दिया गया था।

बता दें कि बुधवार को वो पाकिस्तान पारी के 18वें ओवर के दौरान अपने कोटे का पांचवां ओवर फेंक रहे थे कि अचानक पांचवी गेंद पर पंड्या अपनी कमर पकड़कर मैदान पर ही लेट गए। इसके बाद पंड्या को मैदान पर मौजूद साथी खिलाड़ियों और टीम के स्टाफ ने उठाने की कोशिश की लेकिन वो खड़े नहीं हो पाए।

इसलिए पंड्या को स्ट्रेचर पर लिटा कर मैदान से बाहर ले जाया गया। आपको बता दें, पिछले 3 महीनों में ये तीसरा मौका है जब कोई भारतीय खिलाड़ी चोटिल हुआ हो। जिस वजह से BCCI का इंजरी मैनेजमेंट प्रोग्राम सवालों के घेरे में है।

जरुर पढ़ें:  दीपा मलिक बनीं खेल रत्न पाने वाली पहली महिला पैरा-एथलीट

दरअसल इससे पहले भी तेज़ गेंदबाज़ भुवनेश्वर कुमार जुलाई में खेले गए तीसरे वनडे मैच में चोटिल हुए थे। उनके बाद इंग्लैंड के ही खिलाफ चौथे टेस्ट मैच में रविचंद्रन अश्विन चोटिल हुए थे। लगातार चोटिल हो रहे खिलाड़ियों से BCCI को खिलाड़ियों पर रहे दबाव के बारे में सोचना लाज़मी है।

बता दें, पंड्या की इस चोट के बाद इंडियन टीम मैनेजमेंट ने बताया कि उन्हें एक्यूट लोअर बैंक में इंजरी हुई है। लेकिन बाद में वो सही सलामत खड़े हुए हैं और मेडिकल टीम उनकी जांच कर रही है। हालांकि पंड्या की चोट किस तरह की है और वो इस टूर्नामेंट में आगे खेल पाएंगे या नहीं इस बात पर टीम मैनेजमेंट की तरफ से अभी कुछ भी नहीं कहा गया है।

Loading...