देशभर में सीएए कानून को लेकर प्रदर्शन जारी है। जिसे लेकर विपक्ष पार्टी के नेता राहुल गांधी, सोनिया गांधी और ममता बनर्जी जमकर इसका विरोध किया है। लेकिन, अब सीएए को लेकर अमेरिका की टेक कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्या नडेला ने नगरिकता संशोधन कानून पर अपनी बात कही है।

Microsoft CEO StyaNadella

जी हां, सीएए को लेकर सत्या नडेला ने विरोध प्रदर्शनों करने वालों को बेकार बताया है। उनका कहना है कि ये कानून बाहर से आए लोगों के लिए बेकार है। वही, वेबसाइट बजफीड के एडिटर बेन स्मिथ ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है, कि स्मिथ ने बताया कि जब उन्होंने नडेला से सीएए पर सवाल पूछा तो, माइक्रोसॉफ्ट सीईओ ने कहा, कि मुझे लगता है भारत में इस पर जो भी हो रहा है, बुरा हो रहा है, मुझे खुशी होगी अगर कोई अप्रवासी बांग्लादेशी भारत में आकर यहां की अगली बड़ी कंपनी खोलते है या इन्फोसिस जैसी कंपनी का अगला सीईओ बनता है। स्मिथ ने एक और ट्वीट में कहा, कि नडेला ने अपनी राय मैनहैटन में माइक्रोसॉफ्ट के कार्यक्रम में एडिटर्स से बातचीत के दौरान रखी है।

नडेला अमेरिका में भारती मूल के दो बड़े टेक लीडर्स में से है। उनके अलावा भारत ही सुंदर पिचई गूगल को हेड कर रहे है। बता दें, कि सत्या नडेला मूलरुप से भारत के हैदराबाद शहर से है। उन्होंने स्मिथ से अपनी बहुसांस्कृति जडों पर भी बात की। नडेला ने कहा, मुझे उस जगह पर गर्व है, जहां से मुझे अपनी सांस्कृति विरासत मिली। आपको बता दें, कि सत्या नडेला हैदराबाद में बड़े हुए है। मुझे हमेशा लगता है कि यह जगह बड़े होने के लिए सबसे अच्छी है। हम ईद मनाते थे, हम क्रिसमस मनाते थे और दिवाली भी- ये तीनों त्योहार हमारे लिए बड़े त्योहार है।”

नडेला ने अपने एक इंटरव्यू में बताया कि मैं अपनी भारतीय विरासत के साथ बड़ा हुआ। मेरी उम्मीद एक ऐसे भारत की है। जहां अप्रावसी भी एक समृद्ध स्टार्टअप खोलने या किसी मल्टीनेशनल कंपनी को आगे ले जाने का सपना है। जिससे भारतीय समाज और अर्थव्यवस्था को फायदा हो।

जरुर पढ़ें:  शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों ने नोएडा-फरीदाबाद जाने वाला एक रास्ता खोला

Support Us

वीके न्यूज़ बिना कार्पोरेट मदद और फंडिग से चलने वाला संस्थान हैं. निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता के लिए हमें मदद करें.