निर्भया गैंगरेप के दोषियों विनय शर्मा और मुकेश सिंह की क्यूरेटिव पिटीशन याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी। इसी के साथ ही इन दोषियों को फांसी पर लटकाने का रास्ता साफ हो गया है। अब 22 जनवरी को इन्हें फांसी पर लटकाने का रास्ता साफ हो गया है। सुप्रीम कोर्ट में पांच जजों की बेंच ने इस मामले की सुनवाई की।

जस्टिस एनवी रमणा की अध्यक्षता में हुई सुनवाई में इनकी याचिका खारिज कर दी गई है। फैसले के दौरान जजों ने कहा कि क्यूटेरिव याचिका में कोई आधार नहीं है। जस्टिस एनवी रमणा, जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस आर एफ नरीमन, जस्टिस आर भानुमति और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच ने ये फैसला दिया है।

जरुर पढ़ें:  अयोध्या विवाद को लेकर दाखिल 18 याचिकाएं खारिज, क्या खत्म हो गया मसला?

Support Us

वीके न्यूज़ बिना कार्पोरेट मदद और फंडिग से चलने वाला संस्थान हैं. निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता के लिए हमें मदद करें.