लड़की की शादी करनी हो, तो मां-बाप लड़के में सबसे पहले क्या गुण देखते हैं। यही, कि वो कामकाजी है या नहीं, कितना कमाता है और वो किसी गलत संगत में तो नहीं है। लड़का अगर अच्छा और शरीफ ना हो तो कोई भी बाप अपनी बेटी की शादी उससे नहीं करेगा। लेकिन इसी देश में एक गांव ऐसा है, जहां लड़कों को शादी करने के लिए पढ़ाई-लिखाई  कर नौकरी करने या नेक इंसान होने की ज़रूरत नहीं पड़ती, बल्कि उसे चोर, हत्यारा और डकैत बनना पडता है। वरना लड़कों की शादी नहीं होती।

गाजियाबाद पुलिस ने चोर गैंग को किया गिरफ्तार

ये सुनकर आपके होश उड़ गए होंगे, लेकिन गाजियाबाद पुलिस ने जिस चोर गैंग को पकड़ा है, उसने ने ही ये खुलासा किया है, कि चोरी करना उनका शौक नहीं बल्कि मजबूरी है, क्योंकि अगर वो चोरी नहीं करेंगे तो कुंआरे रह जाएंगे। आपको बता दें, कि चोरों का पूरा गैंग परिवार और रिश्तोदारों के साथ मिलकर चोरी किया करता था। लेकिन इस गैंग को पुलिस ने धर दबोचा। इनके पास से पुलिस ने चोरी की हुई कार, तीन तमंचे और बाकी सामान जब्त कर लिया है। पुिलस पकड़ में आए पांच चोर हैं, जिनका एक लीडर भी है। लीडर का नाम दास है, जिस पर 12000 का इनाम घोषित था। इन चोरों पर लूटपाट के कई मुकदमे दर्ज हैं।

जरुर पढ़ें:  ...तो RBI ने बंद कर दिए 2000 रुपये के नोट छापने!
शादी करने के लिए करते थे, चोरी

आपको बता दें, कि पकड़े गए सभी चोर हरियाणा के रोहतक जिले के इंदरागढ़ गांव के हैं, जो सांधी सुमदाय से ताल्लुक रखते हैं। इनके समुदाय में लड़के पर हत्या, चोरी, डकैत जैसे मुकदमे होने ज़रुरी है, तभी शादी हो सकती है। गाजियाबाद की क्राइम ब्रांच और मुरादनगर पुलिस ने पूरी गैंग को अपनी गिरफ्त में ले लिया है, लेकिन जब पूछताछ की गई, तो चोरों ने यही बताया, कि उनके यहां चोरी करना ज़रुरी है, नहीं तो उनकी शादी नहीं होगी, इसलिए हम सब मिलकर चोरी करते हैं, ताकि हम पर डकैती के मुकदमे दर्ज हो और हमारी शादी हो सके।

जरुर पढ़ें:  कराची की मस्जिद में पड़ा डाका, लुटे नमाजी
नहीं करेंगे चोरी, तो नहीं होगी शादी

फिलहाल एसपी देहात अरविंद कुमार मौर्य का कहना है, कि गैंग के पकडे जाने से सभी ने राहत भरी सांस ली है, क्योंकि इसी गैंग की वजह से गाजियाबाद में चोरी की वारदातें दिन पर दिन बढ़ रही थी। जिनके पकड़े जाने के बाद अब चोरी की वारदातों में कमी आई है।

Support Us

वीके न्यूज़ बिना कार्पोरेट मदद और फंडिग से चलने वाला संस्थान हैं. निष्पक्ष और निर्भीक पत्रकारिता के लिए हमें मदद करें.